हिमाचल में स्क्रब टाइफस बुखार के कारण से दो की मौत, अलर्ट जारी

बारिश के कारण जल जनित रोगों की आशंका बढ़ जाती है। स्क्रब टायफस को लेकर सरकार ने मुख्य चिकित्सा अधिकारियों और अस्पतालों के वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक को स्क्रब टायफस को लेकर एडवाइजरी जारी कर दवाइयां और बीमारी से निपटने के लिए पुख्ता इंतजाम करने को कहा है।

स्क्रब टायफस को लेकर प्रदेश में अब तक दो लोगों की मौत हुई है, जबकि 189 लोग इस बीमारी की चपेट में है। अस्पतालों में एक जनवरी से 25 जुलाई तक बुखार से पीड़ित 2322 लोगों का चेकअप किया गया जिसमे से 189 लोगों में स्क्रब टायफस के लक्षण पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक बिलासपुर में 79, चंबा 6, हमीरपुर 38, कांगड़ा 43, कुल्लू और किन्नौर में 1-1, शिमला 7, सोलन 2, मंडी 13 और सिरमौर में 1 मामले में बीमारी की पुष्टि की गयी है ।

डेंगू की चपेट में भी आए 29 लोग

शिमला और मंडी में 1-1 व्यक्ति की डेंगू से मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार ने बताया कि बरसात में जनजनित रोग फैलने का खतरा बढ़ता जा रहा है । ऐसे में सरकार ने एडवाइजरी जारी की है। बुखार आने पर लोगों को अस्पताल में चेकअप करने की सलाह दी जा रही है । हिमाचल में इस साल डेंगू की चपेट में लगभग 29 लोग आ चुके हैं। सबसे ज्यादा लोग कांगड़ा में इसकी चपेट में आए हैं।

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक कुल 615 लोगों ने डेंगू की आशंका पर टेस्ट करवाए। डेंगू को लेकर 24 जुलाई को 10 लोगों ने टेस्ट करवाया। चेकअप में एक पॉजिटिव पाया गया,  डेंगू की चपेट में सबसे ज्यादा सोलन जिले में 18 मामले सामने आए है । कांगड़ा में सात, आईजीएमसी शिमला, बिलासपुर, हमीरपुर, शिमला और मंडी में एक-एक मामले आए हैं। हालांकि, अभी तक किसी की मौत नहीं हुई है।

स्क्रब टायफस के लक्षण

  • तेज बुखार 104 से 105 डिग्री तक
  • जोड़ों में दर्द, कंपकपी के साथ बुखार
  • अकड़न या शरीर का थका हुआ लगना
  • अधिक संक्रमण, गर्दन, बाजुओं के नीचे कूल्हों के ऊपर गिल्टियां होना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *