विधायक सतपाल सिंह रायजादा के मामले में कांग्रेस का विधानसभा से वाकआउट

विधानसभा के मानसून सत्र के पहले दिन कांग्रेस ने हंगामा शुरू कर दिया, उन्होंने इसके लिए विधायक संस्था पर खतरे का हवाला देते हुए नारेबाज़ी की। कांग्रेस के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने प्वाइंट आॅफ ऑर्डर के तहत मामला उठाया कि कांग्रेस विधायक सतपाल सिंह रायजादा के घर पर राजनीतिक षडयंत्र के तहत पुलिस ने कार्रवाई करते हुए उनके घर पर जाकर विधायक के पीएसओ व सहायक को गिरफ्तार किया है।

हंगामे के बाद कुछ देर के लिए सदन की कार्यवाही स्‍थतिग करनी पड़ी

हालांकि विधानसभा अध्यक्ष डॉक्‍टर राजीव बिंदल ने कहा कि अभी यह मामला उठाए जाने का उचित समय नहीं है कियोंकि विधानसभा का मानसून सत्र सिर्फ 11 दिन के लिए है, व नियम 67 के तहत इस मामले को बाद में कभी भी उठाया जा सकता है। विधानसभा अध्यक्ष का इतना कहने के बाद हंगामा शुरू हो गया जिस के चलते कुछ देर के के लिए सदन की कार्यवाही स्‍थतिग कर दी गई। दोबारा कार्यवाही शुरू होने पर भी कांग्रेस का प्रदर्शन जारी रहा व कुछ देर बाद सभी विधायकों ने अपने नेता सहित वाकआउट कर दिया। इसके बाद कांग्रेस विधायक दोबारा कार्यवाही में शामिल हुए, लेकिन उनका प्रदर्शन और नारेबाजी जा रही।

मुख्यमंत्री के ब्यान के बाद और बढ़ा मामला, विपक्ष ने की माफ़ी की मांग

हंगामे के दौरान मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर ने कहा कि माफिया इतना सशक्त हो गया है कि पूरा विधायक दल प्रदर्शन और बचाव उतर आया है। मुख्यमंत्री की इस बात को सुनते ही विपक्ष के सारे विधायक वेल में आ गए और नारेबाजी करते हुए मुख्यमंत्री से माफी मांगने की अपील की। अब दोबारा से हंगामा हो रहा है और कांग्रेस के साथ-साथ भाजपा के विधायक और मंत्री भी नारेबाजी कर रहे है।

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह समेत सभी कांग्रेस विधायकों ने जोरदार नारेबाजी

मौजूदा विधानसभा में पहली बार कांग्रेस के सदस्य सदन के बीचोंबीच आ गए, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह समेत सभी कांग्रेस विधायकों ने जोरदार नारेबाजी शुरू कर दी। शोर-शराबे के बीच संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज कुछ कहना चाहते थे, लेकिन विपक्ष नारेबाजी जारी रखे हुए है। विधानसभा अध्यक्ष डॉक्‍टर बिंदल यह कहते सुने गए प्लीज बहुत हो गया शांत हो जाइए। लेकिन विपक्ष का गुस्सा सातवें आसमान पर है। उधर, भाजपा के सभी विधायक नारेबाजी कर रहे हैं, जबकि अनिल शर्मा चुपचाप बैठे हुए हैं।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर चुपचाप अपनी सीट पर बैठे रहे

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी चुपचाप अपनी सीट पर बैठे हुए हैं, जबकि बाकी सभी मंत्री जोर-जोर से नारेबाजी और तालियां बजा रहे हैं और विपक्ष प्रदर्शन कर रहा है। इससे पहले विधानसभा में एक घंटे का शोक प्रकट किया गया, जिसमें विधानसभा के तीन पूर्व सदस्यों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *