हमीरपुर में एनसीसी के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल एम बख्शी ने ‘इंचार्ज शब्द’ पर जताई आपत्ति

हिमाचल प्रदेश के जिला हमीरपुर में एक अजीब घटना देखने को मिली है। पुलिस अधीक्षक कार्यालय से एनसीसी यूनिट के कमांडिंग आफिसर के नाम जो भेजे गए उसमें से एक पत्र पर कर्नल रैंक के सैन्य अफसर बुरी तरह से भड़क गए। मिली जानकारी के अनुसार जिला हमीरपुर में स्थित 4-हिमाचल प्रदेश (स्वतंत्र) कंपनी एनसीसी यूनिट के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल एम बख्शी के नाम से जो पत्र लिखा गया था उस पर एनसीसी इंचार्ज लिख दिया गया था। यह पत्र दो अगस्त को स्वतंत्रता दिवस पर परेड के लिए एनसीसी कैडेट्स भेजने के लिए लिखा गया था।

कर्नल ने पत्र में लिखा “थाना के इंचार्ज नहीं बल्कि भारतीय सेना के कर्नल रहते हैं”

एनसीसी इंचार्ज लिखे जाने पर कर्नल बख्शी ने आपत्ति जताई है। इसके साथ ही उन्होंने पुलिस अधीक्षक के नाम नौ अगस्त को पत्र लिखा जिसमें कहा ‘पुलिस अधीक्षक साहब, यह आपका कोई पुलिस थाना नहीं है। यह एक कर्नल का एनसीसी यूनिट कार्यालय है। यहां थाना के इंचार्ज नहीं बल्कि भारतीय सेना के कर्नल रहते हैं। इसलिए अपने लिपिक स्टाफ से कह दें कि भविष्य में इस तरह के आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग न करें।’ उन्होंने अपने पत्र में यहां तक लिखा कि आईपीएच की ट्रेनिंग में भारतीय सेना की पूरी जानकारी दी जाती है। इसके बाद इस तरह की गलती समझ से परे है।

पुलिस अधीक्षक हमीरपुर अर्जित सेन ने कहा कि एनसीसी कार्यालय से नहीं हुआ इस तरह का कोई पत्र प्राप्त

इस मामले पर पुलिस अधीक्षक हमीरपुर अर्जित सेन ठाकुर ने बयान दिया है कि उनके कार्यालय के लिपिक स्टाफ ने स्वतंत्रता दिवस परेड में एनसीसी कैडेट्स भेजने को लेकर पत्र लिखा था। जिस पर एनसीसी के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल एम बख्शी ने इंचार्ज शब्द पर आपत्ति जताई है। लेकिन उन्हें अभी तक एनसीसी कार्यालय से इस तरह का कोई पत्र प्राप्त नहीं हुआ है। इसके साथ ही एनसीसी यूनिट कार्यालय हमीरपुर के सीनियर जेसीओ सूबेदार सतेंद्र ने अपने बयान में कहा कि कर्नल साहब मेडिकल चेकअप के लिए चंडीगढ़ गए हैं। उनके आने के बाद ही आगे ही बात का पता चलेगा।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *