देश में जनसंख्या नियंत्रण का करना होगा माहौल तैयार : शांता कुमार

India at 103rd number on poverty index in the world

हिमाचल प्रदेश केजिला काँगड़ा के पूर्व केंद्रीय मंत्री शांता कुमार ने अपने बयान में कहा कि अनुच्छेद 370 को ख़त्म करने के बाद अब देश में जनसंख्या नियंत्रण का माहौल तैयार करना भी जरुरी होगा। उन्होंने कहा कि हमारे देश में बढ़ते अपराध की वजह जनसंख्या बढ़ोतरी से उत्पन्न बेरोजगारी और गरीबी है। भारत की प्रति व्यक्ति आर्थिकी 2 हजार डॉलर है, इसके विपरीत अमेरिका की 55 हजार डॉलर है।

जनसंख्या बढ़ोतरी के कारण देश के 20 हजार करोड़ से अधिक लोग मात्र 5 हजार रुपये प्रतिमाह पर कर रहे गुजारा

आगे शांता जी ने कहा कि जनसंख्या वृद्दि के कारण ही हमारे देश के 20 हजार करोड़ से भी अधिक लोग मात्र 5 हजार रुपये प्रतिमाह पर गुजारा करने के लिए मजबूर हैं। शांता जी ने सोमवार को सोलन में बढ़ती जनसंख्या घटते संसाधन के विषय पर संगोष्ठी को मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित किया। बढ़ती जनसंख्या देश की सबसे बड़ी समस्या बनकर उभर रही है। स्वतंत्रता के समय जहां भारत की जनसंख्या 34 करोड़ थी वो अब जनसंख्या लगभग 141 करोड़से भी ऊपर हो चुकी है।

विश्व में गरीबी सूचकांक पर 103वें क्रमांक पर, जबकि कुछ वर्ष पहले हम 97वें क्रमांक पर

भारत में हर दिन जनसंख्या में 50 हजार से ज्यादा बढ़ेातरी हो रही है। शांता जी ने कहा कि हम विश्व में गरीबी सूचकांक पर 103वें क्रमांक पर हैं, जबकि कुछ वर्ष पहले हम 97वें क्रमांक पर थे। और इसकी एसबीएस बड़ा कारन जनसख्या वृद्दि है। उन्होंने यह भी कहा कि बेरोजगारी एवं कुपोषण के कारण मृत्युदर के मूल में जनसंख्या की बढ़ोत्तरी है। कुपोषण के कारण होने वाली मृत्यु का एक तिहाई भारत में है। जनसंख्या की वृद्धि के कारण हमारे संसाधनों पर भी बहित बुरा असर पड़ रहा है। वे निरंतर घटते जा रहे है। इस पर रोक लगाना जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *