मुख्यमंत्री कैबिनेट में नए मंत्री बनाने की जल्दबाजी में बिलकुल नहीं, कारण बताया मानसून सत्र

हिमाचल प्रदेश में कैबिनेट के मंत्रियों के दो पद खाली पड़े हैं। लेकिन मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को अपनी कैबिनेट में दो नए मंत्री बनाने की जल्दबाजी नहीं हैं। जब उनसे मंत्रिमंडल विस्तार पर सवाल किया गया तो उन्होंने बात को टालते हुए बस इतना ही कहा कि अभी मानसून है। जब अमर उजाला ने भी विधानसभा परिसर में बुधवार को जयराम ठाकुर से पूछा कि क्या मानसून सत्र के बाद मंत्रिमंडल विस्तार संभव है तब भी उनका जबाब यही था कि अभी मानसून है।

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री और ऊर्जा मंत्री के पद है खाली

हिमाचल प्रदेश में जयराम कैबिनेट में मंत्रियों के दो पद खाली चल रहे हैं। इनकी खाली होने की वजह लोक सभा चुनाव थे। ये पद बीजेपी सरकार में ऊर्जा मंत्री रहे अनिल शर्मा के इस्तीफे और तत्कालीन खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री किशन कपूर के सांसद बनने के बाद खाली हुए हैं। कैबिनेट में 11 मंत्री होते है। लेकिन इस समय कैबिनेट में केवल नौ मंत्री हैं।

ध्वाला, बरागटा, पठानिया, सुखराम जैसे विधायकों को मिल सकता है मंत्री पद का इनाम

इस तरह मंत्रियों के खाली चल रहे पदों को भरने के लिए वरिष्ठ विधायकों में रमेश ध्वाला, नरेंद्र बरागटा, राकेश पठानिया, सुखराम चौधरी जैसे नाम सामने आ रहे हैं। वरिष्ठ विधायकों में विधायक रमेश ध्वाला और विधायक नरेंद्र बरागटा की कैबिनेट रैंक के पदों पर नियुक्तियां तो हुई हैं लेकिन इनके समर्थक पूरी तरह से संतुष्ट नहीं हैं। दोनों वरिष्ठ विधायक सदन में अपने क्षेत्र के मसले उठा रहे हैं। इनके साथ ही विधायक राकेश पठानिया और विधायक सुखराम चौधरी भी वरिष्ठता के चलते इन दोनों को भी मंत्री पद मिल सकता है।