लगातार हो रही बारिश से हमीरपुर के कक्कड़ में स्कूल और कोट लांगसा में स्लेट वाला मकान ध्वस्त

हिमाचल प्रदेश के जिला हमीरपुर में लगातार हो रही बारिश से काफी नुकसान हुआ है। तीन दिन हुई मूसलाधार बारिश से लोनिवि, आईपीएच विभाग, कृषि विभाग और अन्य विभागों सहित जिला के लोगों को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ है। बुधवार रात और वीरवार को भी जिले में लगभग 3.70 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। लोक निर्माण विभाग को अकेले ही 2.64 करोड़ रुपये की राशि का नुकसान हुआ है। लगातार हो रही बारिश के कारण बुधवार रात को गुब्बर गांव के देशराज की तीन कमरों की दुकान भी गिर गई है।

राजकीय प्राथमिक पाठशाला कक्कड़ का एक कमरा भी चढ़ा बारिश की भेंट

इसके साथ ही राजकीय प्राथमिक पाठशाला कक्कड़ का कमरा भी बारिश की वजह से गिर गया है। बस इस बात का शुकर है कि बच्चों की छुट्टियाँ चल रही हैं। जिसके चलते बहुत बड़ा हादसा होने से टल गया। इसके साथ ही ज्ञान चंद निवासी लोहाखर की पशुशाला, बचित्र सिंह पुत्र प्रभु राम निवासी थाना की पशुशाला, कुलदीप सिंह पुत्र कर्म सिंह के घर के पास का पक्का डंगा, भरेड़ी गांव के वतन सिंह की पशुशाला, अवाहदेवी गांव कोट लांगसा में शुभकरण पुत्र बेली राम का स्लेटपोश मकान ध्वस्त हो गया। उस समय उस मकान के अंदर कोई भी नहीं था, जिसके चलते बहुत बड़ा हादसा होने से टल गया। शुभकरण बीपीएल परिवार के अंदर आता है।

पीड़ित का नाम पहले ही प्रधानमंत्री आवास योजना में डाल रखा : पंचायत प्रधान गुरबख्श

पंचायत प्रधान गुरबख्श के बयान के अनुसार पीड़ित का नाम पहले ही प्रधानमंत्री आवास योजना में डाल रखा है। भोरंज के तहसीलदार अमर सिंह ने अपने बयान में कहा कि पटवारी को घटना वाले स्थान पर भेजकर नुकसान का आकलन करने को कहा है।

रंगस कस्बे में एनएच पर वट वृक्ष की एक बड़ी टहनी गिरने से धर्मशाला-शिमला एनएच पर कुछ देर के लिए यातायात बाधित

इसके साथ ही तहसील नादौन के रंगस में एनएच पर बरगद के वृक्ष की एक बड़ी सी टहनी गिरने के कारण धर्मशाला-शिमला एनएच पर कुछ देर के लिए यातायात बंद हो गए थे।स्थानीय दुकानदारों सोनू, संजू पठानिया, बॉबी, सुभाष चंद ने बताया कि इस हादसे में जानमाल की हानि तो नहीं हुई, परन्तु बड़े वाहनों को गुजरने में दिक्कत हुई। इसकी सुचना एनएच विभाग को दी गई, सुचना मिलने के बाद विभाग ने जेसीबी भेजकर सड़क पर पड़ी टहनी को हटवा दिया। इसके बाद सड़क वाहनों के लिए खुल गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *