नवरात्रों के अवसर पर तारा देवी मंदिर में श्रद्धालुओं को मिलेंगी विशेष सुविधाएं

देव भूमि हिमाचल में नवरात्रों में श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए इस वार सरकार ने नए नए कदम उठाये हैं, ताकी श्रद्धालुओं को कम से कम परेशानियों का सामना करना पड़े ।

शिमला के उपायुक्त श्री अमित कश्यप नवरात्रों को लेकर बुलायी गयी एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह जानकारी दी है कि इस बार के नवरात्रों में श्रद्धालुओं को संकटमोचन (जाखू मंदिर) व तारादेवी मंदिर के दर्शन करने के लिए विशेष बस सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी।

विशेष टैक्सी सुविधा प्रशासन की ओर से मुहैया करवाई जाएगी

उन्होंने बताया कि जाखू मंदिर जाने के लिए दिनांक 29 सितम्बर, 2, 6, 7 व 8 अक्तूबर को विशेष टैक्सी सुविधा प्रशासन की ओर से मुहैया करवाई जाएगी। जिस के अंतर्गत शिमला के संजौली, रिट्ज सिनेमा, लिफ्ट तथा छोटा शिमला से दो विशेष टैक्सी प्रत्येक क्षेत्र से जाखू के लिए चलेगी।

शिमला नगर से संकटमोचन (जाखू) व तारादेवी मंदिर तक नवरात्रों में अवकाश के दिन निगम की बसें सामान्य रूप से चलने के अलावा 100 अतरिक्त फेरे लगाकर श्रद्धालुओं को मंदिर तक आने-जाने की सुविधा प्रदान करेंगी ।

एकतरफा बस किराया 5 रुपये प्रत्येक व्यक्ति रहेगा

बैठक उन्होंने बताया कि शोघी से तारादेवी तक विशेष दो बसें तथा आनंदपुर से तारादेवी के लिए चार बसें हरेक पांच मिनट के अंतराल के बाद निरंतर चलती रहेंगी, इन छः बसों में सामान्य एकतरफा बस किराया 5 रुपये प्रत्येक व्यक्ति रहेगा।

उन्होंने बताया कि यह सुविधाएं मन्दिर में आने वाले श्रद्धालुओं को तारादेवी व जाखू मंदिर में समुचित पार्किंग व्यवस्था के अभाव तथा सामान्य यातायात व्यवस्था को देखते हुए प्रदान की जा रही है।

इस बैठक में पुलिस अधीक्षक उमापति जम्वाल, अतिरिक्त उपायुक्त अपूर्व देवगन, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी कानून एवं व्यवस्था प्रभा राजीव, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी प्रोटोकाॅल नरेश ठाकुर, उपमण्डलाधिकारी शहरी नीरज चावला तथा अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

पाठकों को हम बता दें कि तारा देवी मंदिर, शोघी और शिमला के बीच में पड़ने वाले तारा देवी पर्वत पर शिमला-कालका सड़क मार्ग पर समुद्र तट से 6070 फीट की ऊँचाई पर स्थित है। मन जाता है कि मंदिर तारों की देवी को समर्पित यह मंदिर 250 से भी अधिक साल पहले बनाया गया था। स्थानीय प्रचलित कथाओं के अनुसार तारा देवी ऊंचाई पर होने के जरण हमेशा अपने भक्तों पर नज़र रखती व अपनी कृपा दृष्टि बनाते हुए उन पर अपने आशीर्वादों की झाड़ी लगा देती हैं। यह मंदिर शिमला में आने वाले पर्यटकों का मुख्य आकर्षण है, पर्यटक यातायात सड़क के माध्यम से इस मंदिर तक पहुँच सकते हैं।