हिमाचल प्रदेश में सरकारी सुबिधाओं से हो रही पूर्व विधायक की मौज

हाल ही में हिमाचल सरकार द्वारा विधायक हिमाचल के मंत्री और विधायकों के यात्रा भत्ता बढ़ाने के फैसले से पूर्व विधायकों की मौज़ हो गयी है । ईसिस कारण राज्य में वर्तमान विधायकों से ज्यादा पूर्व विधायक विधानसभा से मिली यात्रा भत्ता की सुविधा का पूरा फायदा उठा कर मौज कर रहे हैं।

विधायकों का यात्रा भत्ता ढाई लाख से बढ़ा कर वर्तमान सरकार ने चार लाख कर दिया है जिस के चलते आरटीआई से बाहर आए आंकड़े से पता चला है कि वर्ष 2018-19 में 39 विधायकों ने इस सुविधा का लाभ लिया तो 58 पूर्व विधायकों ने मुफ्त में इधर उधर की सैर सरकारी खर्चे पर की।

मॉनसून सत्र में 60 फीसदी की वृद्धि की थी

हिमाचल के 19 से 31 अगस्त तक चलने वाले मॉनसून सत्र में सरकार ने बिल पारित किया जिस में राज्य के वर्तमान व पूर्व मंत्रीयों और विधायकों का यात्रा भत्ता बढ़ाने की बात कही गयी थी। जिस के अनुसार विधायकों का यात्रा भत्ता ढाई लाख से बढ़ाकर 4 लाख रुपये सालाना और पूर्व विधायकों का भत्ता सवा लाख से बढ़ाकर दो लाख किया गया।

सबसे ज्यादा खर्च करने वाले विधायक

आशा कुमारी कांग्रेस 249905 रुपए
सुखविंद्र सुक्खू कांग्रेस 208187 रुपए
राकेश जमवाल भाजपा 249470 रुपए

सबसे कम खर्च करने वाले विधायक

अनिरुध सिंह कांग्रेस 2720 रुपए
कमलेश कुमारी भाजपा 4933 रुपए
पवन काजल कांग्रेस 7487 रुपए

नोट: कुल 39 में से अन्य विधायकों का खर्चा इस अधिकतम और न्यूनतम खर्च के बीच है, जबकि मंत्रियों का खर्च इसमें शामिल नहीं है।