आठ जिलों के 35 खंड प्रारंभिक शिक्षा अधिकारियों को मिला कारण बताओ नोटिस

हिमाचल प्रदेश के आठ जिलों के 35 खंड प्रारंभिक शिक्षा अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिए हैं। राज्य सरकार के प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय ने निश्चित किए गए समय के अंदर शिक्षकों का ई सैलरी कोड अपडेट नहीं करने पर यह कदम उठाया गया है। ये कार्यवाई करने से पहले सभी अधिकारियों को अपनी स्थिति स्पष्ट करने के लिए पांच दिनों का समय दिया गया है।

सभी शिक्षकों के ई-सैलरी कोड मानव संपदा पोर्टल पर करना है अपलोड : निदेशक प्रारंभिक शिक्षा रोहित जम्वाल

हिमाचल प्रदेश के निदेशक प्रारंभिक शिक्षा रोहित जम्वाल ने अपने बयान में बताया कि सभी शिक्षकों के ई-सैलरी कोड को मानव संपदा पोर्टल पर अपलोड करना है। इस कोड को उपलोड करने के लिए सभी जिलों के खंड प्रारंभिक शिक्षा अधिकारियों को 12 सितंबर को पत्र जारी करके भेज दिया है साथ में 21 सितंबर तक डाटा देने के निर्देश भी दिए हैं। रोहित जम्वाल ने कहा कि ज्यादातर क्षेत्रों से डाटा मिल चुका है। केवल आठ जिलों के 38 खंड प्रारंभिक शिक्षा अधिकारियों ने अभी तक इस बारे में कोई भी जानकारी मुहैया नहीं करवाई है। इस वजह से इन अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिए गए हैं।

हिमाचल के 8 जिलों के 35 खंडो की लिस्ट जहाँ के लिए कारण बताओ नोटिस जारी

निदेशक ने अपने बयान में कहा कि जिला चंबा में पांगी, सलूणी, किन्नौर जिला में कल्पा, निचार, कुल्लू जिला में बंजार, लाहौल-स्पीति में काजा, केलांग वन, उदयपुर, जिला मंडी में बल्ह (नेरचौक), चौंतड़ा वन, धर्मपुर वन, गोपालपुर वन, जिला शिमला में देहा, डोडरा क्वार, जुब्बल, कसुम्पटी वन, मत्याणा, नेरवा, रामपुर दो (सराहन), रनसर (जांगला), रोहड़ू, सुन्नी, टिक्कर, जिला सिरमौर में ददाहू, माजरा, नाहन, नारग, पांवटा साहिब, संगडाह, सराहन, सुरला और जिला सोलन के धर्मपुर, कंडाघाट, कुठाड़ और नालागढ़ खंड प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी को नोटिस जारी किया गया है। कार्यवाई करने से पहले सभी अधिकारियों को अपनी स्थिति स्पष्ट करने के लिए पांच दिनों का समय भी दिया गया है।