शिमला का इतिहास एवं संस्कृति – History and Culture of Shimla, Himachal Pradesh

जैसा कि हम जानते हैं कि शिमला अपने प्रशंसकों के लिए पहाड़ियों की रानी के रूप में भी जाना जाता है, हिमाचल प्रदेश राज्य की राजधानी है। शिमला का नाम देवी श्याला देवी से लिया गया है, जो देवी काली का प्रतीक है। ज़िला की प्रमुख चोटियों में: जाखू, सियाह, चूड़धार, चांसल, हाटू तथा शाली शामिल है। जिले की भूगौलिक स्तिथि मुश्किलों भरी है ।

शिमला का इतिहास

अंग्रेजों को उत्तर भारत के पहाड़ी क्षेत्र शिमला में अपने देश की तस्वीर दिखती थी। उन्हें यह जगह इतनी पसंद आई की उन्होंने इसे हू-ब-हू England के शहर की शक्ल देने की कोशिश की। खास बात तो यह है कि वे साल के ज्यादातर माह शिमला में ही गुजारते थे।

पर्यटन स्थल माल रोड शिमला: घूमने की पूरी जानकारी

शिमला का माल रोड Himachal Pradesh के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है। यह बेहद खूबसूरत जगह है। यहाँ लोग दूर दूर से घूमने आते है।

यहाँ पर भिविन्न प्रकार के रोमांचक दृश्य आप देख सकते है। पहाड़ो का सूंदर बाताबरण का आनंद लेते हुए और साथ में अनेक प्रकार के ब्यंजनो का लुत्फ़ उठाते हुए आप सड़क की सैर क्र सकते है। Photographer, छोटे बिक्रेता, Horse Riding  यहाँ के प्रमुख आकर्षणों में से एक है।

माल रोड नो-व्हीकल जोन है जिस वजह से आप पैदल चलते हुए यहाँ के अनेक दृश्यों और इमारतों को देखने का आनंद ले सकते है। यहाँ भिविन्न प्रकार के उत्स्बो के दौरान इस जगह को बहुत सुन्दर बनाया जाता है। यहाँ अनेक प्रकार के समारोह भी किये जाते है। माल रोड इतना आकर्षक पर्यटन स्थल है कि कुछ देर के लिए लोग अपनी चिंताएं भूल के इसमें खो जाते हैं।

Shimla Mall Road की दुकानों से क्या खरीद सकते हैं ?

माल रोड जाए और कुछ न खरीदें ऐसा तो हो ही नहीं सकता यहाँ की दुकाने बहुत सूंदर और अलग प्रकार की बस्तुओं के लिए प्रसिद्ध है।

यहाँ का लकड़ी बाजार बहुत प्रसिद्ध है जहा अनेक प्रकार की बस्तुएं मिलती है। यहाँ अनेको प्रकार के ब्यंजन,वस्त्र ,आभूषण,ऊनी कपड़े मिलते है।

माल रोड पर जब भी कुछ ख़रीदने का सोचें तो याद रखे की मोलभाव जरूर कर ले। हिमाचल की प्रसिद्ध टोपियां भी यहाँ अनेक डिज़ाइन में मिल जाती हैं।

माल रोड पर देखने लायक खूबसूरत स्थान :

“SCANDAL POINT”

“SCANDAL POINT”, माल रोड और रिज की ओर जाने वाली सड़क के मिलन बिंदु पर स्थित है।यहां से एक राजा ब्रिटिश वायसराय की बेटी के साथ भाग गया था जिससे बहुत ज्यादा हंगामा हुआ था और इसलिए इस जगह को “SCANDAL POINT” कहा जाता है। महान स्वतंत्रता सेनानी लाजपत राय की प्रतिमा यहाँ पर स्थित है ।

काली बाड़ी मंदिर

कालीबाड़ी मंदिर 195 वर्ष पुराना है। अंग्रेजी शासन काल के समय का यह मंदिर बहुत ही प्राचीन मंदिर है। पहले यहां पर गुफा हुआ करती थी। शिमला कालीबाड़ी मंदिर की स्थापना वर्ष 1823 में बंगाली समुदाय द्वारा की गई थी। कालीबाड़ी मंदिर में काली माता की मूर्ति के साथ एक तरफ श्यामला माता की शिला है और दूसरी तरफ चंडी माता की शिला है। वहीं जिस समय इस मंदिर को बनाया गया था उस समय इस मंदिर में लगी मूर्ति की ऊंचाई चार फीट थी। इस मंदिर में माता की पत्थर की मूर्ति लगी है। इस मूर्ति में लगे पत्थरों को जयपुर से लाया गया है।

शिमला : Gaiety Theater

साल 1887 में यह थियेटर बनाया गया। जो देश और प्रदेश का तमाम तरह का इतिहास संजोए है।  12th century से लेकर 18th century  तक इस तरह के ही थियेटर बनाए जाते थे। ब्रिटिश काल में जब शिमला समर कैपिटल थी, उस समय अंग्रेज शिमला को कल्चरल सैंटर बनाना चाहते थे, इसलिए उन्होंने गेयटी थियेटर को निर्माण करवाया। ऐसे थियेटर पूरे विश्व में अब केवल 6 बच गए हैं।

माल रोड शिमला जाने का सबसे अच्छा समय

गर्मियों का मौसम माल रोड घूमने का सही वक्त है। इस समय आपको बहुत सुहावना वातावरण मिलेगा मार्च और जून महीने में शिमला का तापमान बहुत अच्छा होता है।

 शिमला : Christ Church

Christ Church, Shimla के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। क्राइस्ट चर्च माल रोड़ से 5.3 km की दूरी पर स्थित है। इस चर्च को पूरा करने में तीन साल का समय लगा था।

यह चर्च बेहद सूंदर है। रोज़ सुबह शाम यहाँ प्रार्थना की जाती है। आप बॉलीवुड की सबसे बड़ी हिट फिल्मों में से एक 3 इडियट्स में देख चुके होंगे यहाँ जाके बहुत शांति मिलती है, शिमला जाये तो चर्च जरूर जा के आये।

समर हिल

समर हिल, शिमला-रेलवे लाइन पर, समुद्र तल से 1283 mऊंचाई पर स्थित है। आप यहाँ मॉर्निंग वाक का भी आनंद ले सकते हैं ।यह जगह माल रोड से 5 किलोमीटर दूर है। यहाँ पर गर्मियों और सर्दियों दोनों मोसम में अनेको लोग घूमने आते हैं।

आगंतुक इस खूबसूरत जगह के शांत वातावरण में एक प्रकृति वॉक ले सकते हैं। ‘मैनोर्विल हवेली’ और ‘हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय’ इस पहाड़ी पर स्थित हैं। पाइन और देवदार के पेड़ों से भरी हुई यह जगह, प्रकृति प्रेमियों को लुभावने परिदृश्यों का आनंद देती है।

अर्की किला शिमला

अर्की किला राजपुताना और मुग़ल बास्तुक्ला का मेल है। इस किले को कलांगरा चित्रों की वजह से जाना जाता है। इसमें कई पुराने चित्र लगे हुए हैं जो आज भी बहुत सूंदर लगते हैं।लोग इस किले की इन सूंदर और  पुराने चित्रों को देखते दूर दूर से यहाँ आते हैं।

नालदेहरा शिमला

यह जगह माल रोड से लगभग 26  किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। लॉर्ड कर्जन ने यहां एक गोल्फ कोर्स की स्थापना की थी। यहाँ बहुत सारे देवदार के पेड़ हैं जो इसकी सुंदरता को और बढ़ाते हैं बर्फ से ढके पहाड़ देखने के लिए यह जगह एकदम उपयुक्त है।

मशोबरा

मशोबरा Mall Road से 13 km की दूरी पर स्थित है। यह एक हरे भरे मैदान में फैला हुआ है। यह जगह उन लोगो को बहुत पसंद आती है जो एक शांत जगह पर बेथ क्र अपना समय बिता के दुनिया की भाग धोद से अलग होना चाहते हों।

शिमला राज्य संग्रहालय

शिमला राज्य संग्रहालय माल रोड से 3 km दूर है।  इसको हिमाचल पुस्तकालय के नाम से भी जाना जाता है।यह अपनी अनेक प्रकार की पेंटिंग्स, किताबों के लिए भी प्रसिद्ध है।

कुफरी

कुफरी शिमला से 17 km की दूरी पर स्थित है यहाँ भरी बर्फवारी होती है।  सर्दियों में यहाँ की सड़के बर्फ से ढकी रहती हैं।कुफरी जाने पर आपको कई शानदार और रोमांचक नज़ारे देखने को मिलते हैं। रत के समय यहाँ घना जंगल होने के कारन अनेक जानवर भी मिल जाते हैं।यह जगह बाकई में बहुत खूबसूरत जगह है।

सोलन

सोलन माल रोड़ से लगभग 46 km की दूरी पर स्थित है।सोलन एक ऐसा शहर है जो यहां आने वाले पर्यटक को बेहद पसंद आता है यह अपने कई प्रकार के ब्यबसायो के लिए प्रसिद्ध है जैसे की मशरूम और टमाटर की खेती क लिए।

श्री गुरु सिंह सभा

श्री गुरु सिंह सभा लगवग 109 साल पुराना है। यह माल रोड से 1।2 किलोमीटर दूर है। शिमला के पास यह स्थान परिवारों और समूहों लिए बहुत ही कम दाम में कमरे और सराएँ उपलब्ध करवाता है।

इसकी स्थापना महाराजा भूपिंदर सिंह ने की थी।

ठियोग

ठियोग माल रोड से 31 km दूर है।  यह पर्यटकों को शनती का वातावरण उपलब्ध करवाता है। यह भीड़ भरी जगह से दूर एकांत में स्थित है।

तत्तापानी

तत्तापानी हिमाचल प्रदेश के बहुत प्रसिद्ध स्थानों में से एक स्थान है। जैसे की नाम से पता चलता है कि यहाँ गरम पानी

के अनेक झरने, मंदिर,गुफाएं, घास के मैदान इत्यादि है।यहाँ रिवर राफ्टिंग भी करवाई जाती है। सतलुज नदी के किनारे और हरी भरी घास पर चलने से आपका मन शांत और खुश हो जायेगा।तत्तापानी मॉल रोड से 57 km की दूरी पर स्थित है।

कामना देवी मंदिर

यह मंदिर मॉल रोड से 5.5 km की दूरी पर स्थित है। यह मंदिर पहाड़ो के बीच में स्थित है।जुंगा के राणा ने देवी काली को समर्पित इस मंदिर का निर्माण किया था। यहाँ पर्यटक दूर दूर से माता के दरतषं के लिए आते हैं।

तारा देवी मंदिर

यह मंदिर माल रोड से 19 km की दूरी पर है। विशाल पहाड़ियों और सूंदर देवदार के पेड़ो के बीचोबीच यह मंदिर बहुत सूंदर दिखता है।  इस मंदिर में स्थानिय लोग बहुत भव्य तरिके से पूजा करते हैं। त्योहारों के समय पर इस मंदिर की सुंदरता और ज्यादा बढ़ जाती है। यह मंदिर बहुत प्राचीन मंदिरों में से एक है।

फागु

यह स्थान माल रोड़ से 21 km की दूरी पर स्थित है। यहाँ देवदार के पेड़ ,ऊँची पहाड़ियां बहुत सूंदर दिखती हैं।सर्दियों के मौसम में यहाँ बहुत अच्छी बर्फ़बारी होती है। गर्मियों में भी ये स्थान बहुत रोमांचक लगता है।

कैसे पहुंचा जाए माल रोड शिमला?

Shimla के बिलकुल केंद्र में माल रोड स्थित है। यहाँ पहुंचना बहुत आसान है। माल रोड एक भीड़ वाली जगह है तो यहाँ आप अपना वाहन नहीं लेके जा सकते हो। ध्यान रखें कि मुख्य सड़क पर वाहनों की अनुमति नहीं है। इसलिए आपको अपना वाहन दूर पार्क करना पड़ेगा।

यह बस स्टॉप से 1 km और रेलवे स्टेशन से 1.5 km की दूरी पर स्थित है, यहाँ आप बस से भी जा सकते हैं।