हिमाचल पदेश में चार दिनों के अंदर 350 नए चकित्सक नियुक्त : विपिन सिंह परमार

हिमाचल पदेश को अगले चार दिन के अंदर 350 नए चकित्सक मिलेंगे। शीत सत्र के 3rd दिन की चर्चा के दौरान स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार ने यह घोषणा की। विपिन सिंह परमार कहा कि टांडा में वॉक इन इंटरव्यू आरंभ कर दिया है। शिमला एवं नाहन में 2 दिन के अंदर ये इंटरव्यू होंगे। इन सभी चकित्सकों को उन अस्पतालों में भेजा जाएगा, जहां पर डॉक्टर नहीं है।

हिमाचल में  2020 में लोगों के फिर बनाए जाएगें स्वास्थ्य कार्ड

स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार विधानसभा में नियम-130 के अंतर्गत स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर लाई गई चर्चा के जवाब में यह बोल रहे थे। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि हिमाचल में साल 2020 में लोगों के फिर स्वास्थ्य कार्ड बनाए जाएगें। इन स्वास्थ्य कार्ड में उन लोगों को फायदा मिलेगा, जो लोग पहले अपना स्वास्थ्य कार्ड नहीं बना सके। यह स्वास्थ्य कार्ड जनवरी से 31 मार्च तक बनाए जाएंगे।इसके अतिरिक्त लोगों के पहले बनाए गए कार्ड को भी रिन्यू किया जाएगा।

विपिन सिंह परमार ने कहा कि आयुष्मान, हिमकेयर में हजारों लोगों का मुफ्त में इलाज किया गया है। अगले बर्ष लोगों के स्वास्थ्य पर 100 करोड़ रुपये तक खर्च होंगे। प्रदेश सरकार ने 2 बर्षों के कार्यकाल में साढ़े सात सौ चकित्सकों की तैनाती की है। इसके साथ 300 नर्सें, 345 फार्मासिस्ट लिपिक एवं रेडियोग्राफर के हजारों पद भी भरे हैं।

शीत सत्र के 3rd दिन में 2 विनियोग विधेयक ध्वनिमत से पारित

हिमाचल विधानसभा के शीत सत्र के 3rd दिन में 2 विनियोग विधेयक ध्वनिमत से पारित किए गए। इसमें से 1 विधेयक वित्तीय वर्ष 2011 to 2012 के बजट को पारित करने के लिए पेश किया गया, और 2nd विधेयक वित्तीय वर्ष 2012 to 2013 के बजट पारित के लिए सदन में पेश किया गया। मुख्यमंत्री ने 2 विनियोग विधेयकों को पारित करने का सुझाव रखा, उस सुझाव को सदन ने ध्वनिमत से स्वीकृति दे दी। इन विधेयकों पर कांग्रेस के विधायक जगत सिंह नेगी ने प्रश्न पूछा कि अब तक इन विधेयकों के पारित करने में देरी क्यों हुई। इस पर मुख्यमंत्री ने उत्तर दिया कि लोक लेखा समिति ने इस बारे में अभी स्वीकृति दी है।

प्रदेशों में निजी क्षेत्र में Services दे रहे हिमाचली बच्चों को निर्धारित होगा प्रवेश कोटा

प्रदेशों में निजी क्षेत्र में Services दे रहे हिमाचली के बच्चों को Medical एवं Dental colleges में प्रवेश लेने के लिए कोटा निर्धारित किया जा सकता है। यह प्रवेश कोटा एनईईटी की वरियता सूची के बेस पर तय किया जाएगा। इस सारे मामले पर सरकार द्वारा विचार किया जा रहा है। यह सारी जानकारी सुजानपुर के कांग्रेस विधायक राजेंद्र राणा के सवाल के लिखित उत्तर में स्वास्थ्य मंत्री ने दी।

राजेंद्र राणा ने सवाल पूछा कि रोजगार के लिए हिमाचल से बाहर सेवाएं दे रहे लोगों को एनईईटी में प्रदेश के कोटे के अंतर्गत इम्तिहान में बैठने की अनुमति नहीं है, क्या यह सब सही है। इसके उत्तर में विपिन सिंह परमार ने स्पष्ट किया कि ऐसा कुछ नहीं है। वे विभिन्न शर्तों के अंतर्गत प्रदेश के कॉलेजों में प्रवेश ले सकते हैं। विपिन सिंह परमार ने कहा कि बोनाफाइड हिमाचलियों के ऐसे छात्रों को राज्य कोटे की सीटों की पात्रता के लिए बिना शर्त के स्कूली शिक्षा में छूट दी गई है।

पिछले तीन साल में बनी 374 सड़कों व 32 पुलों का डीपीआर

हिमाचल में विधायक प्राथमिकता के अंतर्गत पिछले 3 बर्षो में सड़कों की 374 एवं 32 पुलों की डीपीआर को बनाया गया है। यह जानकारी लिखित रूप से मुख्यमंत्री ने रामपुर के कांग्रेस विधायक नंदलाल के प्रश्न के उत्तर में दी।

पिछले बर्ष की तुलना में पौधारोपण की दर 76 % से बढ़कर 94 % पहुंची

हिमाचल प्रदेश में वित्तीय 2019-2020 में 15 नवंबर तक पिछले बर्ष की तुलना में पौधारोपण की सफलता दर बढ़ रही है। यह दर 76 % से बढ़कर 94 % तक पहुंच गई है। वन विभाग पौधो की समय-समय पर देखभाल कर रहा है। यह जानकारी विधायक नंदलाल के प्रश्न के उत्तर में वन मंत्री गोबिंद ठाकुर ने लिखित रूप में दी।

हिमाचल के हाईकोर्ट में फौजदारी और दीवानी के 42006 मामले Pending

हिमाचल प्रदेश के हाईकोर्ट में फौजदारी और दीवानी के कुल 42006 मामले 31 अक्तूबर 2019 तक Pending थे। यह लिखित सूचना मुख्यमंत्री ने किन्नौर के विधायक जगत सिंह नेगी के प्रश्न के उत्तर में दी।