राजधानी शिमला में स्तिथ क्राइस्ट चर्च एक धार्मिक और पर्टयक स्थल, Christ Church in Shimla in Hindi

Christ_Church_80

हिमाचल प्रदेश की राजधानी में स्तिथ क्राइस्ट चर्च उत्तर भारत के सबसे पुराने चर्चों में से एक है। जो शिमला की रिज मैदान में स्तिथ है। इस की स्थापना 1857 में अंग्रेजों द्वारा इलाके में बड़े एंग्लिकन ब्रिटिश समुदाय की सेवा के लिए बनाया गया था। यह स्थान शिमला गुमने आये पर्टयकों के आकर्षण का केंद्र है। यह स्थान हिमाचल में स्तिथ सबसे ज्यादा देखे जाने वाला स्थानो में से एक है। चर्च परिसर के अंदर कांच की खिड़कियां लगी हुई हैं। जो दान, भाग्य, विश्वास, आशा, धैर्य और मानवता का प्रतिनिधित्व करती हैं।

Christ_Church_70

शिमला में स्तिथ यह भारत के ब्रिटिश शासन के लंबे समय तक चलने वाली विरासतों में से एक है और शिमला का सबसे लोकप्रिय स्थान भी है।इस धार्मिक स्थान का निर्माण वास्तुकला की नव-गोथिक शैली में किया गया है और यदि आप शिमला आते हो तो आप को अपना कुछ संक्य यहां व्यतीत करना चाहिए। यहां आने वाले हर व्यक्ति को इस शानदार संरचना में कुछ समय बिताना चाहिए। यहां आ के आप की आत्मा को बेहद शांति और सकून मिलेगा। आप अपने आप को ईश्वर के करीब पाओगे।

Christ_Church_90

ऐतिहासिक जानकारी, historical information

शिमला का यह सिल्हूट शिमला शहर के आसपास के क्षेत्रों में कई किलोमीटर तक दिखाई देता है। क्राइस्ट चर्च ब्रिटिश राज की स्थायी विरासतों में से एक है। इस खूबसूरत क्राइस्ट चर्च को कर्नल जे टी। बोइल्यू ने 1844 में डिजाइन किया था। इस की आधारशिला 9 सितंबर 1844 को कलकत्ता के बिशप डैनियल विल्सन द्वारा रखी गई थी। 10 जनवरी 1857 को मद्रास के बिशप थॉमस डेल्ट्रे, बिशप द्वारा चर्च को संरक्षित किया गया था। यह क्राइस्ट चर्च भारतीय उपमहाद्वीप पर 20 वीं सदी के विभाजन और उसके बाद की राजनीतिक उथल-पुथल से बच गया। यह स्थान सच में बहुत ही मनमोहित का देने वाले स्थानों में एक है।

Christ_Church_97

क्राइस्ट चर्च आने का सही समय, Best time to visit Christ Church

इस स्थान में गुमने के लिए मार्च से जून का समय सबसे सही माना जाता है। शिमला घूमने का सबसे अच्छा समय तब होता है, जब दिन के समय मौसम सुहावना होता है, इस दौरान आप को शिमला हिल के और भी बहुत से प्रकृति के सौंदर्य देखने को मिलेंगे। और यदि आप बर्फ प्रेमी हो तो आप को सर्दियों के दौरान (नवंबर से फरवरी) के बिच में आना चाहिए। इस दौरान मौसम में बर्फबारी, बर्फ की गतिविधियों का अनुभव करने और बर्फ से ढके हुए वातावरण देखने और बर्फ से खेलने का सही समय है।