धर्मशाला में स्तिथ वर्षा के देवता इंद्रुनाग मंदिर और रोमांचित पर्टयक स्थान, Indrunag Temple, the God of Rain, and Thrilled Partyak Place in Dharamshala

Indrunag_Temple_09

हिमाचल प्रदेश के काँगड़ा जिले में स्तिथ पर्टयक स्थान धर्मशाला में स्तिथ ये एक हिन्दुओ का धार्मिक स्थान है। इंद्रू नाग मंदिर स्थानीय ग्रामीणों द्वारा निर्मित एक प्राचीन मंदिर है। और यह नाग राजा को समर्पित है। यह मंदिर धर्मशाला बस स्टेशन से 5 किलोमीटर की दुरी में स्तिथ है। इंद्रू नाग मंदिर धर्मशाला में चोहला गाँव के पास इंद्रू नाग में स्थित है। इस मंदिर के समीप धर्मशाला पेराग्लाइडिंग और अन्य एडवेंचर रोमांचित खेल भी स्तिथ है। धर्मशाला में आये सैलानियों का मैक्लोडगंज के बाद यह दूसरा सबसे ज्यादा देखे जाने वाला स्थान है।

Indrunag_Temple_89

यहां लोग इंद्रू नाग देवता से पुरे श्रद्धा से प्रार्थना करते हैं। और वे दृढ़ता से मानते हैं कि यह भगवान उन्हें प्राकृतिक आपदाओं और विशेष रूप से भारी बारिश से बचाता है। यह मंदिर इंद्र भगवान् और नाग देवता को समर्पित है। इस स्थान से आप को धर्मशाला शहर और मैक्लोडगंज का बहुत ही खूबसूरत नजारा देखने को मिलेगा। जो यहां आये पर्टयकों का आकर्षण के केंद्र बनता है।

Indru_nag_Temple_79

यदि आप इस धार्मिक और रोमांचित स्थान में जाना चाहते है। तो आप को को धर्मशाला से खनियारा वाले रास्ते पर आना होगा। खनियारा धर्मशाला से कुछ दुरी में बसा एक गांव है। जो धौलाधार की पहाड़ियों के साथ में स्तिथ है। इंद्रू नाग में पैराग्लाइडिंग के लिए सबसे अच्छा समय अक्टूबर और दिसंबर के बीच है। इस स्थान में पर्टयक पैराग्लाइडिंग का भी आनंद ले सकते है। यहां पहाड़ी घाटी पर स्थित एक छोटा सा पठार है। जो पैराग्लाइडर द्वारा 15-20 मिनट की सवारी के लिए लॉन्चिंग पैड के रूप में उपयोग किया जाता है। यह धर्मशाला शहर के ऊपर एक छोटी लेकिन सुंदर उड़ान प्रदान करती है। इस उड़ान से आप धर्मशाला शहर के सौंदर्य को आसमान में उड़ते एक पक्षी की भांति निहार सकते है।

यहां आने का सही समय, Right time to come here

इंद्रुनाग में हर साल पर्टयकों की मात्रा में बढ़ोतरी हो रही है। जिस के चलते यहां के निवासियों को बेहद राहत मिली है। निवासियों और अन्य व्यपारियो ने यहां होटल्स और गेस्ट हाउस का निर्माण किया है। यहां आये सैलानियों को अब रात्रि निवास के लिए धर्मशाला नहीं आना पड़ेगा व अब इंद्रुनाग में ही रुक सकते है। धर्मशाला घूमने का सबसे अच्छा समय फरवरी से जून (वसंत और गर्मियों) के बीच धर्मशाला की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है। इस समय यहां का मौसम बहुत ही शांत और शीतल होता है। धर्मशाला में सर्दियों के समय ऊपरी स्थान जैसे मैक्लोडगंज, नड्डी गांव, धर्मकोट, भागसू, जैसे सथानो में बर्फ देखने को मिल जाती है। हालांकि मौसम बेहद ठंडा हो जाता मगर इस दौरान हिमाचल प्रदेश के पड़ोसी राज्यों से बहुत से सैलानी इस स्थान में बर्फ का आनंद लेने आ जाते है। सर्दियों में यहां धौलाधार की चोटियाँ पूरी तरह से बर्फ से डक्क जाती है।