शिमला का प्रसिद्ध ऐतिहासिक गेयटी हेरिटेज कल्चरल काम्प्लेक्स, Famous Gaiety Theater Shimla District

हिमाचल प्रदेश में बहुत सी ऐतिहासिक इमारते स्तिथ है। शिमला इतिहास काल से ही ब्रिटिश सरकार का लोकप्रिय स्थान रहा है। जिस कारण उन्होंने यहां बहुत से अपने कर्यालय स्थापित किये थे। जिसमे मॉल रोड के समीप शिमला केंद्र में स्तिथ Gaiety Heritage कल्चरल कॉम्प्लेक्स एक महत्वपूर्ण और लोकप्रिय पर्यटक स्थान है। जिसे 1887 में 30 मई को खोला गया था। इस काम्प्लेक्स को ऐतिहासिक सांस्कृतिक केंद्र को डिजाइन करने वाले हेनरी इरविन द्वारा डिजाइन किया गया था। इमारत की उत्कृष्ट गोथिक शैली की वास्तुकला विक्टोरियन कलात्मकता की सच्ची अभिव्यक्ति है।

Gaiety_Heritage_47

122 साल पुराना थिएटर-कॉम्प्लेक्स, 122 years old theater-काम्प्लेक्स

यह गाइएटी हेरिटेज कल्चरल काम्प्लेक्स 122 साल पुराना थिएटर-कॉम्प्लेक्स है। जो आपको 19 वीं शताब्दी के अंत में वर्तमान भारत के सबसे पुराने जीवित ब्रिटिश संरचनाओं में से एक में ले जाता है। यह ब्रिटिश निर्माण का एक अद्भुत स्थान है। यह स्थान बहुत ही लोकप्रिय और इतिहासिक है। यह काम्प्लेक्स रुडयार्ड किपलिंग, पृथ्वीराज कपूर, बाटन पावेल और के।एल। सहगल, जैसे अन्य लोगों में से जिन्होंने इसकी भौतिक इकाई को अमर कर दिया है।

Gaiety_Heritage_08

शिमला में स्तिथ यह ऐतिहासिक कॉम्प्लेक्स प्रारंभ में यह एक शस्त्रागार, पुलिस कार्यालय,थिएटर, बॉलरूम, बार और एक पांच मंजिला इमारत हुआ करती थी। स्थापना की तारीख से लगभग दो दशकों के बाद यह पाया गया कि इमारत संरचनात्मक रूप से असुरक्षित थी। इसे आंशिक रूप से ध्वस्त कर दिया गया, लेकिन गेयटी थियेटर इससे अछूता नहीं रहा। इस परिसर में सबसे लोकप्रिय आकर्षित विक्टोरियन थिएटर है।

लोकप्रिय और ऐतिहासिक स्थान, Popular and Historical Places

यह स्थान प्रदर्शनी स्थलों बहुउद्देश्यीय हॉल, एम्फीथिएटर, आर्ट गैलरी, और पुराने थिएटर हॉल सहित कई स्थानों के साथ, यह राजधानी में प्रदर्शन कला का केंद्र है। यह परिसर अपनी सांस्कृतिक प्रमुखता के कारण यहां हर साल बहुत से सैलानी गुमने के लिये आते है। यह स्थान शिमला में स्तिथ एक लोकप्रिय और ऐतिहासिक स्थानों में एक है। यह ऐतिहासिक स्थान आज नगर निगम के रूप में जाने जाने वाले इस टाउन हॉल के साथ में ही गेयटी थियेटर की योजना बनाई गई और एक साथ निर्माण किया गया। यहां दर्ज होने वाला पहला नाटक 9 जून 1838 को हुआ था।

Gaiety_Heritage_02

प्रवेश शुल्क, Entrance fees

यह स्थान शिमला में स्तिथ सबसे अधिक देखे जाने वाला स्थान है। यह स्थान बहुत ही ऐतिहासिक है। जिस कारण यहां पर्टयकों की भीड़ लगी रहती है। हर साल देश विदेश से सैलानी यहां आते है। पहाड़ी हिल्स होने की बजह से यहां गर्मियों में भी अधिकतर मौसम ठंडा रहता है।
यहां आने का और घूमने का समय सुबह 09:00 बजे से शाम 05:00 बजे तक का है। और प्रवेश शुल्क: भारतीय RS 10, विदेशियों RS 25
है।

Related Posts