बौद्ध धर्म से सम्बंदित “कर्दांग मठ” लाहौल स्पीति, Kardang Monastery or Kardang Gompa or Kardang Math in Hindi

हिमाचल प्रदेश के लाहौल स्पीति जिले में स्तिथ यह मठ बौद्ध धर्म से समबन्दित लोकप्रिय और धार्मिक स्थान है। हिमाचल प्रदेश में बहुत से लोकप्रिय और देश विदेश में प्रसिद्ध बहुत से मठ है। जहां हर साल बहुत से लोग दर्शन और समय वयतीत करने के लिए आते है। लोगो का यह मानना है, की यहां आ के मन को बहुत शांति और सकुन मिलता है। यह कर्दांग मठ लाहौल और स्पीति घाटी में सबसे लोकप्रिय गोम्पाओं में से एक है। यह धर्मिक स्थान भड़गा नदी के किनारे स्तिथ कर्दांग गांव में स्थित है। कर्दांग लाहौल स्पीति में स्तिथ एक लोकप्रिय पर्टयक स्थानों में से एक है।

kardang03

बौद्ध धर्म से सम्बंदित धार्मिक स्थान, Religious places related to Buddhism

हिमाचल प्रदेश में स्तिथ यह मठ रंगचा पीक के नीचे एक रिज के ऊपर स्थित है। इस लोकप्रिय मठ की ऊंचाई समुद्रतल से 3500 मीटर है। यह मठ ऐतिहासिक मठो में से एक है, पौराणिक मान्यताओं के अनुसार यह मठ लगभग 900 वर्ष पुराण है। यह कर्दांग मठ आज भी बौद्ध संस्कृति और सिद्धांतों का एक महत्वपूर्ण केंद्र माना जाता है। यह मठ अपनी धार्मिक महत्व और भित्ति चित्रों और आकर्षक वास्तुकला , थनगास, चित्रों और उपकरणों के संग्रह के लिए लोकप्रिय है।

kardang01

कर्दांग मठ आने का सही समय और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी, Right time to visit Kardang Math and other important information

हिमाचल प्रदेश का यह लोकप्रिय कर्दांग मठ में लगभग तीस भिक्षु और नन स्तिथ हैं। जो गर्मियों में अपने परिवार के साथ यहां अपना समय  बिताते हैं और सर्दियों में मठ को बापिस लौट जाते हैं। हर साल यहाँ जून और जुलाई के महीनों में चाम नृत्य का आयोजन किया जाता है जहाँ भिक्षुओं को नाटकीय मुखौटे पहनाए जाते हैं। शांति चाहने वाले और बौद्ध संस्कृति में अंतर्दृष्टि प्राप्त करने की इच्छा रखने वाले श्रदालुओ के लिए यह मठ बहुत खास जगह है।

kardang05

यदि आप भी कभी हिमाचल प्रदेश गुमने के लिए प्लान बना रहे है। तो लाहौल स्पीति के बिना आप की हिमाचल यात्रा अधूरी रहेगी। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार लामा नोरबू और लामा कुंगा ने इस मठ को  एक उचित शिक्षा और प्रशिक्षण प्रतिष्ठान में बदल दिया। तभी से यहां बौद्ध भिक्षुो को शिक्षा दी जाती है। हर साल बहुत से विदेश से आये सैलानी भी यहां दर्शन के लिए आते है। और बौद्ध धर्म की शिक्षा के लिए यहां आते है