बिलासपुर जिले में स्तिथ यह इतिहासिक और लोकप्रिय किला, Kot-Kahlur – Kahlur Fort Bilaspur

हिमाचल में स्तिथ बिलासपुर का नाम पहले कहलूर हुआ करता था। यहां पर स्तिथ किला या कोट-कहलूर एक राजसी संरचना है। यह किला समुंद्रतल से लगभग 3600 फीट की ऊंचाई पर स्तिथ है। यह स्थान ब्रिटिशकाल से ही एक लोकप्रिय स्थान रहा है। बहुत से राजाओ ने यहां अपनी हकूमत चालायी है। एक ऊँची पहाड़ी पर स्थित यह किला बिलासपुर का एक लोकप्रिय और प्रमुख आकर्षण का केंद्र है। यह स्थान बिलासपुर से बेहद पास होने की बजह से सैलानियों का पसन्दीदा स्थान बन चूका है।

शहर से काफी पास होने की वजह से पर्यटक यहाँ पिकनिक मानाने के लिए और अपना समय व्यतीत करने के लिए यहां आते है। हर साल बहुत से पर्टयक इस खूबसूरत और ऐतिहासिक किले को देखने के लिए आते है। यदि आप भी इतिहास प्रेमी है तो आप के लिए यह एक आदर्श स्थान है।

पत्थरो से निर्मित यह ऐतिहासिक किला, This historic fort built of stones

जो लोग इतिहास में रूचि रखते है उन के लिए यह स्थान बहुत लुहावना है। इस कहलूर किला का निर्माण पूरी तरह से पत्थर से हुआ है, हिमाचल में स्तिथ यह किला एक ऐतिहासिक किलो में से एक है यहाँ से पर्यटक खूबसूरती से भरपूर प्राकर्तिक सौंदर्य का नजारा देख सकते है। इस स्थान से पहाड़ी का सुंदर मनोरम दृश्य देख कर यहां गुमने आये सैलानी मनमोहित हो जाते है।

Kahlur_Fort_Bilaspur

ऐतिहासिक किले का निर्माण, Construction of historical fort

इस ऐतिहासिक किले का निर्माण राजा वीर चन्द चंदेल ने सतलुज घाटी में आकर सन् 697ई। में एक नए राज्य के रूप में किया था। मान्यताओं के अनुसार कहलू-गुज्जर नामक के अनुसार राजा वीरचंद ने सन् 697-730 ई। के दौरान जब उस का शासन हुआ करता था उस समय उस ने यहां माता नयनादेवी का मंदिर व कोट कहलूर के किले का निर्माण करवाया था। इस ऐतिहासिक किले में अब एक पुलिस थाना है। स्तिथ है।

हिमाचल में सबसे ज्यादा किलों वाली रियासते, Highest forts in Himachal

कहलूर जो अब बिलासपुर नाम से जाना जाता है, यह प्रदेश में सबसे ज्यादा किलों वाली रियासतो के लिए जाना जाता था। यहां सबसे ज्यादा रियासते और किले थे। बिलासपुर की हर एक पहाड़ी में केहलूर रियासत के किले थे। जिस का कारण यह था की यह स्थान निचले स्थानों से भी नजदीक पड़ता था। बिलासपुर में स्तिथ हर किला अलग-अलग समय पर अलग-अलग राजाओ द्वारा बनाया गया। और इन सभी किलो के निर्माण की अलग दिलचस्प कहानिया है।

Related Posts