“लोसर गांव” लाहौल स्पीति, Losar village on India-China border in Hindi

हिमाचल प्रदेश के उच्च हिमालय में स्तिथ जिला लाहौल स्पीति का यह अंतिम गांव है। जो भारत चीन सिमा के समीप स्तिथ एक बहुत ही खूबसूरत पर्टयक स्थान है। यह स्थान पूरी तरह से पहाड़ो के बिच में स्तिथ है। इस गांव की ऊंचाई समुद्रतल से 4,080 मीटर है। इतनी ऊंचाई की बजह से यहां साल के ज्यादा समय बर्फ पड़ी रहती है, और यह गांव पूरी तरह से बर्फ की चादर डक्क जाता है। जिसका नजारा देकते ही बनता है। यह स्थान बहुत ही आकर्षित और लोकप्रिय स्थानों में एक है।

losar04

इस गांव में ट्रेकर्स और फोटोग्राफर ठंडे रेगिस्तान में आना बहुत पसंद करते हैं। क्यकि यह स्थान बहुत से प्राकृतिक स्थानों से घिरा हुआ है। यह गांव और आस पास का वातावरण इतना सुंदर और ताज़ा है कि दुनिया भर से लोग शांत वातावरण में आराम करने के लिए यहाँ आते हैं। और अपने आप को प्रकृति के बहुत करीब पाते है।

सुखदायक और बिल्कुल रमणीय स्थान, Soothing and absolutely delightful place

इस लोसर गांव की प्राकृतिक छटा और सौंदर्य लद्दाख से मिलता जुलता है। ऊंची और खूबसूरत पहाड़ियां, सुरम्य नदियां और भव्य वादियां को लिए यह गांव पुरे दुनिया में लोकप्रिय है। लोसर प्रकृति प्रेमियों के लिए बहुत ही सुखद स्थल है। हर साल देश विदेश से सैलानी यहां की वादियों का दीदार करने के लिए आते है।

losar03

इस गांव में गुमने आये पर्टयक और स्तानीय निवासियो के लिए गांव में दुकानें, स्कूल, डाकघर और एक स्वास्थ्य केंद्र भी स्तिथ है। लोसार बेहद शांत सुखदायक और बिल्कुल रमणीय स्थान है। यह गांव पीनो नदियों के संगम के पास स्थित है। इस गांव में लोसार में शानदार पहाड़, तेजस्वी नदियाँ और लुभावनी इमारतें हैं जो यहां आये पर्त्याकपो अपने और आकर्षित करती है।

losar01

लोसर आने का सही समय और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी, Best time to visit Losar and other important information

इस लोकप्रिय पर्टयक स्थान के साथ और भी बहुत से गुमने और समय व्यतीत करने वाले स्थान है। इस गांव के पास ही में चंद्रताल झील जिसे मून लेक के नाम से भी जाना जाता है। यहां का दृश्य बहुत ही सुंदर और मोहक है। इस स्थान में पहुंचने के लिये आप को पहुंचने के लिए, आप को कुंजम दर्रा पार करना पड़ेगा। लोसर गांव आने का सही समय जुलाई और सितंबर के बीच है।

losar02

इस दौरान यहां का मौसम बेहद शांत और सुखद होता है। और रास्ते भी साफ़ होते है। इस गांव में केवल लगभग 242 लोगो की आवादी है। लोसार और काजा के बीच की दूरी केवल 56 किलोमीटर की है। यदि आप लाहौल स्पीति गुमने और समय व्यतीत करने के लिए आ रहे तो इस स्थान में गए बिना आप की यात्रा अधूरी रहेंगी।