विकेरेगल लॉज शिमला राष्ट्रपति का निवास स्थान और इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस स्टडीज, Viceregal Lodge Shimla, President’s Place (Rashtrapati Niwas) & Indian Institute of Advanced Study

हिमाचक प्रदेश की राजधानी शिमला में स्तिथ यह भारत के राष्र्टपतिं का निवास स्थान था। यह हिमाचल के शिमला हिल्स में स्तिथ है। जो पूरी तरह प्रकृति से खिरा हुआ था। यह स्थान बहुत ही ऐतिहासिक है। इस ईमारत के परिसर के अंदर ब्रिटिश शासन के समय के सबसे प्राचीन लेख और तस्वीरें हैं। यह स्थान पहले भारत के ब्रिटिश वायसराय का निवास स्थान भगी रह चूका है। इस भव्य इमारत का डिज़ाइन जो विकेरेगल लॉज से प्रचलित थी उस समय ब्रिटिश वास्तुकार हेनरी इरविन द्वारा किया गया था।

Viceregal_Lodge_08

विकेरेगल लॉज का निर्माण कार्य

विकेरेगल लॉज- विकेरेगल लॉज का निर्माण कार्य 1880 में शुरू हुआ जिसे 1888 में पूरा क्र दिया गया। उसके बाद ब्रिटिश वायसराय लॉर्ड डफरिन ने 23 जुलाई 1888 को लॉज पर कब्जा कर लिया। यह इमारत में हल्की नीली-ग्रे पत्थर की चिनाई की गयी है। जिसमें टाइल वाली पिच की छत है। जो बहुत ही आकर्षित है। इस इमारत का अधिकतर भाग/इंटीरियर विस्तृत लकड़ी के काम के लिए जाना जाता है। इस लार्ज में देवदार के पेड़ की लकड़ी और अखरोट की लकड़ द्वारा पूर्ण किया गया था।

Viceregal_Lodge_80

विकेरेगल लॉज इतना ऐतिहासिक होने के बजह से भी अभी तक वैसा ही है। इसमें कुछ ज्यादा बदलाव नहीं आये है। यह शिमला में स्तिथ 7 हिल्स में से एक में स्तिथ है। यदि आप होटल स्टेटहॉफ के में रुकर हो तो यहां से आप पांच मिनट में वहां पहुंचने वाले स्टेट म्यूजियम के प्रवेश द्वार के बाईं ओर से लेन पर जाया जा सकता है। 60 के दशक के शुरुआती दिनों में भारत के महान राष्ट्रपति डॉ। एस। राधाकृष्णन और प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने इसे विद्वानों का निवास बनाने का फैसला किया। उन्हें यहां का वातावरण बहुत पसंद था।

इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस स्टडीज में परिवर्तन

विकेरेगल लॉज को 1965 में अनुसंधान केंद्र IIAS (इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस स्टडीज) लॉज में परिवर्तित क्र दिया गया। यह स्थान वायसराय का कार्यालय IIAS निदेशक का कार्यालय बन गया और सम्मेलन हॉल अनुसंधान विद्वानों के लिए बैठक का एक कार्यालय बन गया। इस स्थान में इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस स्टडीज स्थापित करने के बाद यहां बहुत से भारतीय विषय की संस्कृति, धर्म, मानविकी और सामाजिक और प्राकृतिक विज्ञान शामिल किया गया हैं। इस परिसर के अंदर भी बहुत से परिवर्तन किये गए है। ड्राइंग रूम, बॉलरूम और डाइनिंग रूम को एक पुस्तकालय में बदल दिया गया था।

Viceregal_Lodge_90

इस के परिसर के अंदर एक ऐतिहासिक संग्राहलय स्तापित किया गया है जिस में ब्रिटिश राज से समबन्दित बहुत सी वस्तुए ग्रन्थ तस्वीरें और भी बहुत कुछ रखा गया है। इस संस्थान के प्रसिद्ध पूर्व छात्रों में से एक बर्मीस नोबेल पुरस्कार विजेता आंग सान सू की हैं, जो 1987-1989 तक लगभग दो साल तक शोध सहयोगी के रूप में यहां रहे। यह नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी की अध्य्क्ष है। यह आंग सान सू की जन्म : 19 जून, 1945 म्यांमार (बर्मा) की एक राजनेता, राजनयिक तथा लेखक हैं। वे बर्मा के राष्ट्रपिता आंग सान की पुत्री हैं

बॉलीवुड में भी लोकप्रिय

यहां के प्राकृतिक सौंदर्य और बर्फ से ढकी यहां के ऊँचे ऊँचे पर्वत शिमला हिल्स को और भी ज्यादा आकर्षित बना देते है। सर्दियों में बहुत से पर्टयक यहां के लिए रवाना होते है। लोकप्रियता होने की बजह से और प्रकृति के इस अध्भुत दृश्य से बॉलीवुड भी इस स्थान की और आकर्षित हुआ और बहुत सी फिल्मो में यहां के कुछ शॉट लिए जाते है। बॉलीवुड कनेक्ट ने इस शानदार इमारत को राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म ब्लैक (2005) में मिशेल (रानी मुखर्जी) कॉलेज के रूप में दिखाया गया था। यह स्थान शिमला से केवल 3 किलोमीटर की दुरी पर स्तिथ है।