सुंदर नगर हिमाचल प्रदेश में स्तिथ व्यास नदी के किनारे स्तिथ एक लोकप्रिय पर्टयक स्थान, A popular tourist spot on the banks of the river Beas in Sundar Nagar Himachal Pradesh

Sunder_Nager_Mandi_

यह प्रसिद्ध और लोकप्रिय पर्टयक स्थान हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में स्तिथ है। जो व्यास नदी के किनारे स्तिथ एक बहुत ही खूबसूरत और प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर स्थान है। यह स्थान पर्टयकों का पसंदीदा स्थान बन चुका है। यह खूबसूरत स्थान जिला मंदिर मंडी से 24 किलोमीटर की दुरी पर स्तिथ है। जहां से प्राकृतिक सौंदर्य का नजारा बहुत ही मनमोहित कर देने वाला है। इस स्थान में बहुत से धार्मिक स्थान भी स्तिथ है। यहां पर महामाया मंदिर और सुखदेव मंदिर भी स्थित है। जो हिन्दुओ का एक अद्भुत आस्था का प्रतीक है।

Sunder_Nagar__Mandi(1)

एशिया का सबसे बड़ा प्रोजेक्‍ट, Asia’s largest project

यहां स्तिथ यह धार्मिक मंदिर को पहले सुकेत के नाम से जाना जाता था। मंडी की म्‍यूनिसपल काउंसिल भी सुंदरनगर में ही स्थित है। मंडी जिले में बहुत से पर्टयक स्थान है। जहां हर साल भारी मात्रा में सैलानी गुमने और समय व्यतीत करने के लिए आते है। इस स्थान की समुद्रतल से ऊंचाई 1175 मीटर है। यह स्थान यहां चलने वाले व्‍यास और सतलुज नदी पर बने हेडल प्रोजेक्‍ट के कारण भी चर्चा में रहता है। जो एशिया का सबसे बड़ा प्रोजेक्‍ट माना जाता है। इस नदी पर बने प्रोजेक्‍ट के चलते ही नार्थ इंडियनस को सिंचाई हेतू पानी उप्लवब्ध करवाया जाता है।

Sunder_Nager_Mandi(1)

सुखदेव वटिका नाम से प्रसिद्ध एक सुंदर बगीचा, A beautiful garden famous as Sukhdev Vatika

सूंदर नगर का नाम ही यहां की खूबसूरती की बजह से रखा गया है। यहां स्तिथ व्यास -सतलुज परियोजना के पानी ने इसे मानव निर्मित झील का रूप दिया है। सुंदरनगर में बहुत से मनमोहित दृश्य देखने को मिलते है। ऊँचे-ऊँचे पेड़ो के बीच अपने छायादार और शीतल हवा के लिए यह स्थान बहुत ही प्रसिद्ध है। यहां पर एक बहुत ही खूबसूरत सुखदेव वटिका नाम से एक सुंदर बगीचा है। इसी से सुंदरनगर को अभूतपूर्व समृद्धि मिली है।

Sunder_Nager_Mandi

महाभारत काल के दौरान, During the Mahabharata period

यह खूबसूरत वाटिका एनएच 21 पर बीबीएमबी रिजर्व के पास स्थित है। पूर्व-महाभारत काल के दौरान ऋषि शुकदेव इस जगह पर ध्यान केंद्रित करते थे। यह गुफा हरिद्धार की ओर जाती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार ऐसा माना जाता है, कि ऋषि शुक्देव ने हर गुफा पवित्र गंगा नदी में स्नान करने के लिए इस गुफा का इस्तेमाल किया था। तभी से यह स्थान चर्तित रहा है। यदि आप भी हिमाचल की सैर करने का प्लान बना रहे है तो इस स्थान में भी आना ना भूले।