“थांका चित्रकला” लाहौल स्पीति में स्तिथ एक विचित्र कलाकृति, Thanka Painting Lahaul Spiti in Hindi

हिमाचल प्रदेश में बहुत से ऐसे स्थान है जो अपनी सांस्कृति ऐतिहासिक स्थान और अपनी कलाकृति के लिए जाने जाते है। कुछ ऐसा ही एक प्रसिद्ध और लोकप्रिय कलाकृति है थांका जो एक बहुत ही लोकप्रिय चित्रकला है। यह चित्रकला भारतीय, नेपाली तथा तिब्बती संस्कृति की अनुकाम मिसाल है। देश विदेश से भारत गुमने आये सैलानी इन चित्रकलाओ को देकने और खरीदने के लिए आते है। यह चित्रकला तिब्बती धर्म, संस्कृति एवं दार्शनिक मूल्यों को अभिव्यक्त किया जाता रहा है। इन चित्रकलाओं का निर्माण सामान्यत सूती वस्त्र के धुले हुए काटल कार द्वारा किया जाता है।

 

महायान और बज्रयान बौद्ध धर्म में स्थान, Places in Mahayana and Bajrayan Buddhism

थांका चित्रकला का महायान और बज्रयान बौद्ध धर्म में बहुत बडा स्थान है। यह चित्रकला बिना कोही भी गुम्बा या अन्य धार्मिक स्थल अधुरा होता है। थांका चित्रकला का निर्माण कार्य में वस्त्र का उपयोग किया जाता है। वस्त्र के मध्य भाग में प्रमुख देव या देवी या गुरु की फोटो चित्रित होती है और उनके चारौं और उन से सम्बन्धित कार्यौ को दर्शाया जाता है।

thangka02

जो इन चित्रों में हाथो से बहुत बारीकी से काम किया जाता है। यह चित्रकलाये बहुत ही खूबसूरत और आकर्षित होती है। ऐसी बहुत सी कलाकृतिया आप को बोध मठ में देखने को मिल जायँगी। यह इतनी आकर्षित होती है की आप इन्हे देख कर ही इनके और खींचे चले आयंगे।