सिरमौर जिले में स्तिथ “चूड़धार ट्रेक” , “Chudhar Trek” is a popular and famous Pertek place in Sirmaur district

Churdhar_Trek(3)

हिमाचल प्रदेश में बहुत से लोकप्रिय और प्रसिद्ध ट्रेक स्तिथ है, जो देश विदेश में जाने जाते है,जहा हर साल बहुत से पर्टयक गुमने और समय व्यतीत करने के लिए आटे है, हिमाचल के खूबसूरत पहाड़ो के दृश्य यहां आये सैलानियों को बेहद रोमांचित करते है। चूड़धार ट्रेक की ऊंचाई समुंद्रतल से तकरीबन (3,647) मीटर की है। हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में बहुत से लोकप्रिय पर्टयक स्थान है, यहां एक बहुत ही खूबसूरत आध्यात्मिक ट्रेक है। जिसे चूड़धार ट्रेक के नाम से जाना जाता है। चूड़धार ट्रेक की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय मार्च से दिसंबर के महीने में होता है। इस ट्रेक के बेस कैंप से चौपाल निकटतम शहर है। इस लोकप्रिय चूड़धार की ट्रेक की लंबाई नौराधार से 16 किमी की है।

Churdhar_Trek(1)

प्रसिद्ध भगवान शिव (चुदेश्वर महादेव) को समर्पित एक धार्मिक मंदिर, A religious temple dedicated to the famous Lord Shiva (Chudeshwar Mahadev)

यह ट्रेक सारैन से लगभग 8 किलोमीटर की है, चूड़धार ट्रेकिंग यहां आये सैलानियों को बहुत से मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। चूड़धार चोटी हिमाचल प्रदेश में स्तिथ सिरमौर जिले की सबसे ऊंची चोटी है, साथ ही बाहरी हिमालय में स्थित सबसे ऊंची चोटी भी है। इस शिखर के नीचे भगवान शिरगुल देवता का एक देवदार-छत मंदिर भी स्तिथ है, लोकप्रिय होने के साथ यहां बहुत से धार्मिक स्थान भी स्तिथ है, यहां एक प्रसिद्ध भगवान शिव (चुदेश्वर महादेव) को समर्पित एक आवास है, जिसका सिरमौर, चौपाल और सोला क्षेत्र के स्थानीय लोगों के लिए गहरा महत्व है। यहां के निवासी चुदेश्वर महादेव को अपना कुल देवता मानते है, और पूरी श्रद्धा जे साथ इन की पूजा अर्चना करते है।

Churdhar_Trek(2)

चूर चंदानी’ के रूप में भी जाना जाता है, Also known as ‘Chur Chandani’

सिरमौर में स्तिथ चूड़धार को चांदनी में पहने जाने वाले ‘चूर चंदानी’ के रूप में भी जाना जाता है। चूड़धार शिखर का दृष्टिकोण यहां आये पर्टयक तीन ओर से कर सकते है। नौराधार के माध्यम से यहां 16 किमी (सिरमौर), सराइन से 8 किमी (चौपाल, शिमला) और पुलवाल से लगभग 8 किमी (चौपाल, शिमला)। सबसे लोकप्रिय मार्ग नौराधार से है, जो बीच में और चारों ओर शानदार दृश्य के साथ सुंदर हॉल्टिंग पॉइंट्स के साथ है। यह स्थान प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर है, जो बेहद शांत और सुखद है।

Churdhar_Trek(4)

महान धार्मिक महत्व, Great religious significance

यह स्थान रोमांचित तो है ही साथ में एक महान धार्मिक महत्व का स्थान भी रखता है। चूड़धार चोटी के शीर्ष पर, भगवान शिव की एक विशाल प्रतिमा मंत्रमुग्ध करती हुई दिखाई देती है, जो सैलानियों को रोमांचित करती है, जो आपको महाभारत और रामायण जैसे महान भारतीय महाकाव्यों के किस्से भी बताती है।

Churdhar_Trek(5)

द ग्रेट आर्क नामक पुस्तक में वर्णन, Description in the book called The Great Arch

लोकप्रिय जॉन केय द्वारा द ग्रेट आर्क नामक पुस्तक में चूड़धार चोटी का वर्णन किया गया है, लेकिन इसे द चूर कहा जाता है। यह इस शिखर से है, कि जॉर्ज एवरेस्ट ने 1834 के आसपास हिमालय के पहाड़ों की कई खगोलीय रीडिंग और दृष्टि बनाई। वह जॉर्ज एवरेस्ट भारत के सर्वेयर जनरल थे। उन्होंने भारत की पूर्ण लंबाई के प्रारंभिक सर्वेक्षण के साथ-साथ पृथ्वी की वक्रता के कुछ बहुत सटीक माप भी किए थे।

Churdhar_Trek