देवभू‌मि हिमाचल में स्तिथ एक ऐसा अद्भुत “जमलू देवता मंदिर” जिसे छू लिया तो देना होगा जुर्माना, A wonderful “Jamlu Devta Temple” in Devbhoomi, Himachal

हिमाचल प्रदेश अपने लोकप्रिय और धार्मिक पर्टयक स्थल और धार्मिक स्थलों के लिए देश विदेश में जाना जाता है, एक ऐसा ही एक स्थान है, हिमाचल प्रदेश के जिला कुल्लू के मलाणा गांव में जिसे जमलू देवता के नाम से जाना जाता है, यह मंदिर बेहद ऐतिहासिक और लोकप्रिय धार्मिक स्थानों में से एक है, इस मंदिर की बहुत से पौराणिक मान्यताये है, जो अपने आप में एक बहुत ही अद्भुत और रोमांचित है, यह देवता यहां के स्थाई निवासियों के कुल देवता मानते है, यदि को पर्टयक या गांव के बाहर का व्यक्ति इस मंदिर को स्पर्श कर ले तो अशुभ माना जाता है। इस लिए इस मंदिर को पर्टयकों को स्पर्श नहीं करने दिया जाता।

jamlu02

एक प्राचीन धार्मिक स्थान, An ancient religious place

यदि कोई व्यक्ति गलती से इस मंदिर को स्पर्श कर ले तो उसे जुर्माना देना पड़ता है। हर साल बहुत से लोग इस धार्मिक मंदिर के दर्शन के लिए आते है। यह मलाणा गाँव का एक प्राचीन मंदिर है। इस गांव की लोकप्रियता इस को और भी ज्यादा आकर्षित बनाती है। इस मलाणा गांव में सबसे अच्छे विकसित चरस / खरपतवार / घास की पैदावार होती है। धार्मिक होने के साथ साथ यह गांव बहुत खूबसूरत भी है, जो प्रकृति के बहुत से मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। यह मंदिर एक अद्भुत कलाकृति से निर्मित मंदिर है, जो पर्टयकों को अपनी और आकर्षित करता है।

jamlu04

भगवान विष्णु जी के छठवें अवतार भगवान परशुराम के पिता, Father of Lord Parashurama, the sixth incarnation of Lord Vishnu

इस पवित्र मंदिर के “पुजारी के घर के पास में जमदग्नि ऋषि का निवास है, जिसे स्थानीय बोली में जमलू ऋषि कहा जाता है। यहां के निवासी जमलू देवता को बहुत मानते है, और पूरी श्रदा के साथ इन की पूजा अर्चना करते है। पौराणिक मान्यता के अनुसार जमलू देवता भगवान श्री विष्णु जी के छठवें अवतार भगवान परशुराम के पिता हैं। मंदिर परिसर के बाहर बोर्ड में साफ़ अक्षरों में लिखा हुआ है।

jamlu03

मंदिर की किसी भी चीज़ को छुना माना है, ऐसा करने वाले को 1000 RS जुरमाना जुर्माना देना पड़ेगा। आप इस धार्मिक और अद्भुत मंदिर के दर्शन साल के किसी भी महीने में कर सकते है। इस धार्मिक और लोकप्रिय मंदिर के आस पास और भी बहुत से लोकप्रिय पर्टयक स्थल है, जैसे मणिकरण, कसोल, खीरगंगा इतियादी।

Related Posts