काँगड़ा जिले में स्तिथ प्रसिद्ध “श्री श्वेतांबर जैन” जी का धार्मिक स्थल, Religious site of the famous “Shwetambar Jain” Ji in the famous Kangra district

हिमाचल प्रदेश अपने शांतिपूर्ण और चित्र-परिपूर्ण परिवेश और शांत वातावरण के साथ प्रकृति की गोद में स्थित एक बहुत ही खूबसूरत स्थान है, यह लोकप्रिय स्थान ध्यान और आत्मनिरीक्षण के लिए एक आदर्श स्थान प्रदान करता है। हर साल लाखों की संख्या में सैलानी यहां गुमने और समय व्यतीत करने के लिए आते है। ऐसा ही एक स्थान है, हिमाचल के जिला काँगड़ा में जो जैन धर्म से संबदीत एक लोकप्रिय मंदिर है। जिसे श्वेतांबर मंदिर के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर को आदीनाथ मंदिर के नाम से भी जाना जाता है।

picture_saved(7)

मंदिर में भगवान आदीनाथ की प्राचीन राजसी मूर्ति स्तिथ, The ancient royal statue of Lord Adinath in the temple

यह ऐतिहासिक मंदिर काँगड़ा जिले में स्तिथ काँगड़ा किले में स्तिथ है, इस मंदिर में भगवान आदीनाथ की प्राचीन राजसी मूर्ति किले के अंदर एक छोटे से मंदिर में बनी हुई है। यह तीर्थस्थल एक समय में एक गौरवशाली स्थान था। यह स्थान कब्जे के तहत उपेक्षा की स्थिति में रहा। मान्यता है की वेतांबर मुर्तिपुजक संप्रदाय के आचार्य विजय वल्लभ सूरी जी महाराज ने विग्रहपति त्रिवेणी नामक ग्रंथ के आधार पर इस तीर्थ की खोज की थी। इस तीर्थ का आधिपत्य जैन समुदाय को सरकार द्वारा सौंप दिया गया था। जैनियों को अब भगवान आदिनाथ की पूजा / आरती करने की अनुमति है। यहां अंबिका देवी की भी एक मूर्ति स्तिथ है,दूसरे छोटे मंदिर में रखी गई है।

picture_saved(6)

श्री श्वेतांबर जैन कांगड़ा तीर्थस्थान पहुंचने की दुरी, Shri Shwetambar Jain is near to reach Kangra shrine

हिमाचल प्रदेश के जिला कांगड़ा में श्री श्वेतांबर जैन कांगड़ा तीर्थ स्थान काँगड़ा बस स्टैंड से 4 किमी की दूरी पर स्तिथ है, यह मंदिर काँगड़ा रेलवे स्टेशन से 30 किमी की दुरी पर स्तिथ है। और कांगड़ा हवाई अड्डे से लगभग 40 किमी की दुरी पर स्थित है। प्रसिद्ध इस काँगड़ा किले की तलहटी पर जैन समुदाय द्वारा जमीन का एक ताजा टुकड़ा अधिग्रहित किया गया था, जहां तीर्थयात्रियों के लिए ठहरने की व्यवस्था भी की गई थी। इसी स्थान में भगवान अदिनाथ का एक नया मंदिर भी उसी परिसर में बनाया गया है, इस मंदिर के लिए रणकपुर से भगवान आद्यनाथ की एक नई मूर्ति लाई गई थी। हर साल बहुत से पर्टयक इस ऐतिहासिक मंदिर के दर्शन करने के लिए आते है, यह स्थान बेहद रोमांचित और आकर्षित स्थान है।

Related Posts