रानीताल गार्डन हिमाचल प्रदेश के नहान, Ranital Garden is a famous tourist place in Nahan

Ranital_Garden

नाहन शहर हिमाचल प्रदेश के जिला सिरमौर में एक बहुत ही लोकप्रिय पर्टयक स्थान है। गर्मीयो के दौरान यहां बहुत से सैलानी गुमने और समय व्यतीत करने के लिए आते है। पिछले कुछ समय से इस स्थान में पर्यटकों की चहल-पहल भी बढ़ने लगी है। यहां एक बहुत ही प्रसिद्ध बाग़ है, जो रानीताल बाग़ ना से जाना जाता है, यहां आजकल सुबह-शाम में पर्यटकों की भीड़ देखी जा सकती है। गर्मी के मौसम में यहां शीतल हवाएं चलती है, यह गार्डन यहां के स्थानीय लोगों यहां आये पर्यटकों के लिए एक आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।

_Ranital_Garden(1)

गार्डन का निर्माण, Garden construction

जिला सिरमौर में स्थित नाहन शहर के बिच में स्थित रानीताल गार्डन शहर की सुंदरता को चार चाद लगाता है। यह बहुत ही खूबसूरत स्थान है, इस लोकप्रिय रानीताल गार्डन का निर्माण 1889 में हुआ था। खूबसूरत होने के साथ साथ यह पार्क बेहद ऐतिहासिक भी है। इस लोकप्रिय नहान शहर में 393 साल से भी पुरानी हैरीटेज इमारतें मौजूद हैं, जो उस स्थान को और भी ज्यादा आकर्षित बनाता है। ऐतिहासिक जानकारी के अनुसार यह प्रदेश का सबसे पुराना व ऐतिहासिक पार्क हो सकता है।

_Ranital_Garden

इटली के प्रसिद्ध इंजीनियर द्वारा हुआ निर्माण कार्य, Construction work done by famous Italian engineer

यह बाग़ तकरीबन 25 से 30 बीघा क्षेत्रफल में फैला हुआ है, जो पूरी तरह से प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर है, इस गार्डन में भिन्न-भिन्न प्रकार के सैकड़ों आम व लीची के पेड़ लगे हुए है, इस बाग़ में बहुत से आम के भी पेड़ स्तिथ है, यह फल सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। इस खूबसूरत शहर का डिजाइन इटली के प्रसिद्ध इंजीनियर ने बनाया था। इंजीनियर ने इस बाग़ में बहुत से हिस्सों को भी इटली कला शैली में तैयार किया गया है। इस गार्डन में प्रसिद्ध धार्मिक स्थान भी स्तिथ है। यहां भगवान शिव का प्राचीन मंदिर मौजूद है।

_Ranital_Garden(2)

गार्डन में स्तिथ प्रसिद्ध प्राचीन शिव मंदिर, Famous ancient Shiva temple in the garden

इस मंदिर में अदभुत 12 ज्योतिलिंग प्रतिष्ठापित किए गए हैं। यहां एक बहुत ही प्रसिद्ध और खूबसूरत तालाब भी स्तिथ है, जिसकी खूबसूरती सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित करती है। ऐसा भी माना जाता है कि ऐतिहासिक समय में यहां की रियासत के दौरान शाही महल से रानी इसी फव्वारे में नहाने के लिए भूमिगत गुफा से यहां पहुंचती थी।