सिरमौर में स्तिथ गिरीगंगा नदी एक लोकप्रिय पर्टयक स्थल, Giriganga river is a popular tourist destination in Sirmaur

Giriganga_Sirmour(2)

हिमाचल प्रदेश में भू से पर्टयक स्थान है, जो बेहद रोमांचित ओर आकर्षित माने जाते है। हिमाचल में सी प्राकृतिक नदिया बहती है, जिनका दृश्य बहुत ही लुहावना और खूबसूरत है। एक ऐसी एक नदी है गिर नदी जो बेहद लोकप्रिय नदी है, इस नदी को गिरीगंगा के नाम से भी जाना जाता है। गिरीगंगा उपत्यका हिमाचल प्रदेश के तीन प्रांतो में फैला हुआ है, जो शिमला, सोलन और सिरमौर में फैली हुई है, गिरी नदी इनके अधिकांश भागों से जलग्रहण कर यमुना में डालती है। इन क्षेत्रों के निवासी यहां स्तिथ गिरी नदी को गिरीगंगा के नाम से पुकारते हैं। गिरीगंगा का जलग्रहण क्षेत्र राजबन उत्तराँचल और हिमाचल की सीमा पर यमुना से शिमला उपनगर के जुब्बल कस्बे के ऊपर कूपड़ पर्वत तक फैला हुआ है।

Giriganga_Sirmour(3)

गिरी नदी बहुत से क्षेत्रो में जल निष्कासित करती हैं, The Giri river drains water in many areas

गिरी नदी और इसकी सहायक नदियाँ जिले के अधिक से अधिक हिस्से से जल निष्कासित करती हैं। इस नदी के अतिरिक्त कोट-खाई और ततेश, जो कि शिमला जिले के कुछ हिस्से हैं, इस नदी के माध्यम से जुब्बल गांव और समीप की पहाड़ियों में अपनी वृद्धि लाती है, उसके बाद यहां से दक्षिण-पश्चिम की तरफ से जिले में प्रवेश करती है। यह नदी शिमला जिले के क्योंथल क्षेत्र के साथ सीमा बनाकर लगभग 40 किलोमीटर लम्बा यह अपना मार्ग जारी रखती है। उसके बाद रामपुर घाट में यमुना नदी में मंडपलासा गांव में, यह जिला सिरमौर के रामपुर घाट के पास यमुना नदी में समा जाती है।

Giriganga_Sirmour

गिरी नदी से नहर का निर्माण, Construction of canal from Giri river

उसके बाद यहां से गिरी नदी से नहर का निर्माण भी किया गया है, जो मोहकमपुर नवादा के पास इस नदी से निकाली गयी है। श्यामपुर में इस नदी पर एक बहुत ही खूबसूरत नौका विहार है। इस नौका विहार में मछली की एक विशेष किस्म पाई जाती है, जिसे महासीर कहा जाता है। यहां काफी मात्रा में इमारती लकड़ी यमुना में लायी जाती है,

Giriganga_Sirmour(1)

और इस की मदद से कुछ स्थानों पर सिंचाई भी की जाती है। यह बहुत ही उपयोगी नदी मानी जाती है। इसके किनारों पर जलाल को छोड़कर इसकी कोई भी सहायक नदियां महत्वपूर्ण नहीं हैं, जलाल इस नदी की एक महत्वपूर्ण सहायक नदी मानी जाती है। जो सैनधार के दक्षिणी-पूर्वी किनारे से सती बाग के नीचे दादाहू के पास मिलती हैं।