“ग्यू मम्मी” हिमाचल प्रदेश की स्पीति घाटी में स्तिथ एक ऐतिहासिक और रहस्मयी पर्टयन स्थान, The Gue Village Mummy of monk Sangha Tenzin

यह लोकप्रिय स्थान हिमाचल प्रदेश में स्पीति घाटी के हिमालय के ठंडे रेगिस्तान में बसा हुआ एक छोटा ग्यू नाम से विख्यात गांव है। यह ग्यू गांव समुद्र तल से लगभग 10,499 फीट की ऊंचाई पर स्थित एक ऐतिहासिक स्थान है। ग्यू गांव भारत-चीन सीमा के करीब स्तिथ है। यह स्थान हिमाचल प्रदेश की एकमात्र प्राकृतिक रूप से संरक्षित ममी का घर है। इस स्थान की ख़ास बात यह है की इस ग्यू गांव में एक ऐतिहासिक मम्मी स्तिथ है, हर साल यहां बहुत से पर्टयक गुमने आते है। यहां एक साइनबोर्ड हैं जो यात्रियों को ममी के विश्राम स्थल की ओर ले जाते हैं।

Gayu_Mummy

तकरीबन 500 से 600 साल पुरानी है ग्यू मम्मी, Gue mummy is about 500 to 600 years old

ग्यू मम्मी भारतीय सेना को खुदाई के दौरान ममी का पता चला था। इस मम्मी को 1975 में एक मकबरे में रखा गया था। कार्बन डेटिंग की जानकारी के अनुसार यह ज्ञात होता है की यह ममी तकरीबन 500 से 600 साल पुरानी है। यहां के स्थानीय मान्यताओं के अनुसार यह माना माना जाता है कि इस मम्मी का संबंध संघा तेनजिन नाम के एक लामा से था। मान्यता है, की इसने अपने गांव की भलाई के लिए अपनी जान देने का फैसला किया था। इस मम्मी को ग्रामीणों द्वारा जीवित देवता के रूप में माना जाता है।

Gayu_Mummy

कड़ी सुरक्षा में संरक्षित है यह मम्मी, This mummy is protected under tight security

यह ममी एक स्क्वैटिंग स्थिति में है जो रेशम के कपड़ो को पहने हुए है। इस मम्मी के दांत और बाल अभी भी अच्छी तरह से संरक्षित हैं। इस मम्मी को एक छोटे से कमरे में एक कांच के बाड़े में रखा गया है, जो एक लोकप्रिय गोम्पा के करीब स्थित है। इस की सुरक्षा के लिए इस मम्मी को एक कमरे में रेखा गया है। पर्टयक खिड़की के माध्यम से उसकी एक झलक देख सकते है। इस कमरे को केवल महत्वपूर्ण त्योहारों के दौरान खोला जाता है। ग्यू आधुनिकीकरण से अछूता एक शांत स्थान है।

ग्यू गांव की दुरी और यात्रा करने का सही समय, Right time to travel and travel to Gyu village

यह एक बेहद शांतिपूर्ण और सुंदर गाँव है, इस गांव में लगभग 100 लोग हैं, यहाँ के निवासी अपनी रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा करने के लिए दूर-दूर के स्थानों तक पैदल यात्रा करते हैं। इस गांव की दुरी काज़ा शहर से लगभग 80 किमी की दूरी पर स्थित है, यह स्थान स्पीति घाटी का उप जिला मुख्यालय और शिमला से लगभग 430 किमी और मनाली से कुंजुम दर्रे के माध्यम से इस की दुरी लगभग 250 किमी की है। इस घाटी में पहुंचने के लिए सबसे अच्छा तरीका निजी परिवहन है। यहां आने का सबसे सही समय गर्मियों के दौरान का है।

Related Posts