“हाटू चोटी” हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला की दूसरी सबसे ऊँची चोटी, “Hatu Peak” is the second highest peak of Shimla

हाटू पीक हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला से लगभग 71 किमी की दुरी पर शिमला-रामपुर राजमार्ग पर स्थित एक खूबसूरत पर्टयक स्थान है। शिमला में स्तिथ नारकंडा तक की सड़कें अच्छी स्थिति में हैं, जो कि चोटी से लगभग 8 किमी की दुरी पर स्तिथ है। यहाँ से पर्टयक 8 किमी तक ट्रेक कर सकते हैं, जो बेहद खूबसूरत और आकर्षित कर देने वाला स्थान है। यहां सैलानी बाइक या कार से पहुंच सकते हैं। लेकिन सड़क का उपयोग करना थोड़ा मुश्किल है, यहां एक समय में केवल एक ही कार चढ़ाई कर सकती है। हाटू चोटी हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले की दूसरी सबसे ऊँची चोटी है।

Hatu_peak_Trek(1)

ओक और मेपल्स के घने जंगलो से घिरा हुआ स्थान, Surrounded by thick forests of oak and maples

हाटू चोटी की ऊंचाई समुद्रतल से लगभग 3400 मीटर तथा (11,152 फीट) है। यह चोटी कोनीफर्स, ओक और मेपल्स के घने जंगल से घिरी हुई है। यह शिमला में स्तिथ एक आसान हाटू पीक ट्रेक है। यहां आने का सबसे अच्छा समय अप्रैल से नवंबर तक का है। इस लोकप्रिय चोटी से नारकंडा निकटतम शहर है। इस हाटू पीक ट्रेक की लंबाई लगभग 7 किमी (एक रास्ता) है। हाटू पीक ट्रेकिंग यहां आये पर्टयकों को एक शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है।

Hatu_peak_Trek(4)

ऐतिहासिक जानकारी, historical Information

इस शिखर पर गोरखाओं ने 19 वीं शताब्दी के प्रारंभ में इस पर कब्जा कर लिया और हाटू चोटी के ऊपर एक किले का निर्माण किया। उसके कुछ समय बाद जब ब्रिटिश आये उन्होंने गोरखाओं को हाटू ऊंचाइयों से बेदखल कर दिया। हाटू अपनी स्की ढलानों के लिए बहुत प्रसिद्ध है। मनाली में स्तिथ पर्वतारोहण और संबद्ध खेल संस्थान का एक उप-केंद्र यहाँ विभिन्न साहसिक गतिविधियाँ चलाता है, सर्दियों के मौसम के दौरान यहाँ स्कीइंग उपकरण उपलब्ध हैं। नारकंडा के पास थानेदार और कोटगढ़ हिमाचल प्रदेश के सेब का मैदान बनाते हैं। यहां के सेब अपनी लोकप्रियता के लिए जाने जाते है। मान्यता है की यहां के सेब बेहद स्वादिस्ट होते है।

Hatu_peak_Trek

एक रोमांचित और खूबसूरत ट्रेक, A thrilling and beautiful trek

हाटू ट्रेक एक समृद्ध कॉनिफ़र जंगल से होकर गुजरता है जिसमें ब्लू-पाइंस, देवदार, फ़िर और स्प्रूस के पेड़ शामिल हैं, जो पर्टयकों को बेहद रोमांचित करते है। हर साल मई के महीने में यहां एक मेला आयोजित किया जाता है। सैलानी रास्ते में एक गुर्जर कोठा (गुर्जरों के अस्थायी आश्रयों के माध्यम से होते हुए गुजरते है। पर्टयक यहां गर्मियों में अपने झुंड के साथ शिविर के लिए आते हैं। एक छोटे से तालाब के साथ ऊंचे पेड़ों, परे चोटियों और ऊपर नीले आकाश को दर्शाते हैं।

चोटी के शीर्ष पर स्तिथ हटु माता मंदिर, Hatu Mata Temple at the top of the peak

यहां एक प्रसिद्ध और धार्मिक हटु माता मंदिर भी स्तिथ है। यह एक लंबे रिज के शीर्ष पर स्थित है। इस मंदिर से पर्टयक हिमालय के 360 डिग्री के मनोरम और प्राकृतिक सौंदर्य के बहुत से दृश्य का आनंद ले सकते हैं। पर्टयकों के लिए यहां से मंदिर के लिए एक रास्ता गुजरता है जो ओक वन के माध्यम से मंदिर के लिए पूर्व की ओर जाता है,

Hatu_peak_Trek(3)

यहां से आधे घंटे की पैदल दूरी पर्टयकों को ‘जोर बाग’ की घास के मैदानों तक ले जाती है। यह स्थान हिमालय के शानदार दृश्य के साथ भरा हुआ है।