पंजाब के कारोबारी ने 107 करोड़ रुपये के जीएसटी घोटाले को दिया अंजाम

GST Fraud

पंजाब के कारोबारी ने 1 दर्जन नकली कंपनियां दर्शाकर एवम नकली जीएसटी नंबर से 107 करोड़ रुपये के जीएसटी घोटाले को अंजाम दिया। बद्दी में 15 दिन पहले खुले माल एवम सेवा कर महानिदेशालय इंटेलिजेंस विभाग शिमला जोन ने इसका खुलासा किया है। मंडी गोविंदगढ़ के कमल आहूजा पर यह आरोप है कि इन्होंने बद्दी, बरोटीवाला, नालागढ़, पांवटा, कालाअंब एवम परवाणू सहित कई स्थानों में फर्जी कंपनियां दर्शाकर करोड़ों के इस घोटाले को अंजाम दिया।

निजी संपत्ति को कब्जे में करके 19.20 करोड़ रुपये की कर ली वसूली

half a dozen कंपनियों में इन्होंने अपने आप को डायरेक्टर बताया तो इतनी ही और कंपनियां किसी और के नाम से दर्शाई। जीएसटी का नकली नंबर Generate कर नकली बिलों से आहूजा हिमाचल के उद्योगों को कच्चा माल बेचने का Refund लेता रहा। परन्तु कंप्यूटर में जब इन नंबरों का मिलाया गया तो फर्जी जीएसटी नंबर का खुलासा हो गया। विभाग के द्वारा आरोपी को गिरफ्तार कर 100 % जुर्माना लगाकर आहूजा की निजी संपत्ति को कब्जे में करके 19.20 करोड़ रुपये की वसूली कर ली हैं।

पंजाब, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश में अलग-अलग नाम से काटे  107 करोड़ के जाली बिल

विभाग के अधिकारियों ने अपनी छानबीन में पाया कि कारोबारी ने 107 करोड़ के जाली बिल पंजाब, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश में अलग-अलग नाम से काटे हैं। जिन नामों से यह बिल कटे थे, उन ठिकानों पर जब अधिकारी पहुंचे तो वहां पर कोई भी नहीं मिला। वहां पर रहने वाले लोगों से पूछताछ की तो पता चला कि यहां पर ऐसी कोई कंपनी नहीं है।

विभाग के अधिकारियों के अनुसार इस मामले में फंसने वाले हैं और भी लोग

इसके पश्चात अधिकारी आहूजा के पास पहुंचे और उसको कस्टडी में लेकर पूछताछ करने लगे। इसके पश्चात करोड़ों के इस घोटाले का खुलासा हो गया। उल्लेखनीय है कि जीएसटी में हिमाचल प्रदेश का 1st ऐसा मामला सामने आया है। विभाग के अधिकारियों के अनुसार अभी और बहुत लोग इस मामले में फंसने वाले हैं।