जिला चम्बा में स्तिथ “सुई माता मंदिर”, “Sui Mata Temple” Religious pilgrimage place for Hindus in Chamba

Sui_Mata_Temple

सुई माता मंदिर हिमाचल के जिला चंबा में स्तिथ एक ऐतिहासिक और लोकप्रिय धार्मिक स्थान है, इस प्राचीन सुई माता मंदिर को राजा वर्मन ने अपनी पत्नी रानी सुई की याद में बनवाया था। एक पौराणिक मान्यता के अनुसार इस क्षेत्र में वर्षों तक बारिश नहीं हुई थी, जिस बजह से राजा साहिल वर्मन ने लगभग सभी संभव तरीकों से देवताओं को खुश करने की कोशिश की लेकिन फिर भी इस स्थान में बारिश नहीं होती। बहुत से पर्यासो के दौरान अंत में राजा ने कुछ ब्राह्मणों से सलाह ली जिन्होंने उन्हें बताया कि उन्हें अपने राज्य में पानी लाने के लिए अपनी पत्नी या अपने बेटे की बलि देने की जरूरत है।

Sui_Mata_Temple(1)

सुई माता के जीवन बलिदान की अनोखी गाथा, The unique saga of Sui Mata’s life sacrifice

इस बजह से सुई माता ने अपने लोगों के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया था। चम्बा के शाह दरबार पहाड़ी के शीर्ष पर स्थित है, इस प्राचीन मंदिर से पर्टयकों को नीचे की छोटी बस्ती का शानदार और बेहद खूबसूरत दृश्य प्रदान करता होता है। इस लोकप्रिय मंदिर के परिसर को तीन भागों में विभाजित किया गया है। यह मंदिर चम्बा जिले में सबसे लोकप्रिय और प्रसिद्ध धार्मिक पर्टयक स्थलों में से एक है। जिसमें यह मुख्य मंदिर रानी सुई माता को समर्पित एक स्मारक शामिल है।

Sui_Mata_Temple(2)

हर साल आयोजित होता है वार्षिक मेला, Annual fair is held every year

इस मंदिर को माता के बलिदान के प्रतीक के रूप में माना जाता है, सुई माता मंदिर के प्रागण पर पहुंचने के लिए पक्की सीढ़ियों की सहायता से पहुंचा जा सकता है। सुइ माता के जीवन और काल का चित्रण सुंदर चित्रों में आंतरिक रूप से किया गया है। यह मंदिर श्रदालु के लिए पूजा का एक स्थानीय स्थान है, इस मंदिर की यात्रा करने के लिए सही समय अप्रैल और मई के दौरान का है, क्युकी इस दौरान मंदिर में एक खूबसूरत और आकर्षित मेला आयोजित किया जाता है।

एक पवित्र धार्मिक स्थल, A sacred shrine

इस वार्षिक मेले के दौरान इस मंदिर में सबसे अधिक भीड़ होती है। यहां छोटी लड़कियों और महिलाओं ने रानी सुई के बलिदान को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए असाधारण रूप से तैयार किया। हर साल बहुत से श्रदालुओ द्वारा इस धार्मिक स्थान की यात्रा की जाती है। यहां के स्थाई निवासियों के लिए यह माता बहुत पूजनीय है वो पूरी श्रद्धा के साथ माता जी की पूजा अर्चना करते है।