काँगड़ा में स्तिथ “तिब्बती इंस्टीट्यूट ऑफ परफॉर्मिंग आर्ट्स”, Tibetan Institute of Performing Arts

picture_saved(40)

हिमाचल प्रदेश में बहुत से बौद्ध धर्म से समबन्दित धार्मिक और रोमांचित स्थान है, जो बेहद आकर्षित और लोकप्रिय माने जाते है। इन्ही में से एक है, तिब्बती इंस्टीट्यूट ऑफ परफॉर्मिंग आर्ट्स (टीआईपीए) जिसे तिब्बत की प्रदर्शन कला की अनूठी परंपरा को संरक्षित करने और बढ़ावा देने के लिए निर्माण किया गया है। यह लोकप्रिय स्थान धर्मशाला में स्तिथ है, जिसे चीनी कब्जे के बाद, परम पावन दलाई लामा ने महसूस किया कि तिब्बत की पारंपरिक प्रदर्शन कलाओं को सुरक्षित रखना बेहद महत्वपूर्ण है, ताकि वे हमेशा के लिए खो न जाएं।

picture_saved(38)

14 वें दलाई लामा, तेनजिन ग्यात्सो द्वारा स्थापित, The 14th Dalai Lama, founded by Tenzin Gyatso

इसे लिए 14 वें दलाई लामा, तेनजिन ग्यात्सो द्वारा स्थापित, तिब्बती इंस्टीट्यूट ऑफ परफॉर्मिंग आर्ट्स (टीआईपीए) तिब्बत से निर्वासन में मेछलोडगंज में हुआ। यह अगस्त 1959 के आसपास था। विकसित दुनिया के साथ, तिब्बती कलात्मक विरासत को विशेष रूप से इसके ओपेरा, नृत्य और संगीत को संरक्षित करने की आवश्यकता थी। इसलिए, इस संस्थान को तिब्बती संगीत, नृत्य, और नाटक सोसायटी के रूप में जाना जाता है। काँगड़ा में स्तिथ सबसे लोकप्रिय पर्टयक स्थानों में से एक है, इस संस्थान का एक प्रमुख आकर्षण वार्षिक शॉटॉन ओपेरा महोत्सव है, जो पारंपरिक तिब्बती ओपेरा या ल्हामो का 9 दिनों का उत्सव है। एक ल्हामो प्रदर्शन 6 घंटे तक रहता है।

picture_saved(39)

तिब्बती कलाकृतियों और पारंपरिक संगीत सबंदित वस्तुए, Tibetan artifacts and traditional music related items

यहां आज भी मिस तिब्बत और अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह जैसे कार्यक्रम भी यहां आयोजित किए जाते हैं। यदि आप इस संस्कृति के जिज्ञासु हैं, और इस सांस्कृति को नजदीक से देखना चाहते है, तो आप यहां कुछ नृत्य और नाटक कार्यक्रमों में भाग लेने से न चूकें। वे नियमित रूप से पेशेवर और एमेच्योर अभिनेताओं और कलाकारों द्वारा मंचन करते हैं। इस स्थान में एक संग्रहालय भी है। यह एक विशेष समय पर ही खुलता है।

picture_saved(41)

संग्रहालय के कार्यवाहक आपको संग्रहालय में प्रदर्शन के माध्यम से मार्गदर्शन करेंगे, परिसर के भीतर एक दुकान भी है, जहां आप तिब्बती कलाकृतियों, पारंपरिक संगीत सीडी आदि की उचित कीमत पर खरीद सकते है। इस संस्थान में कलाकार, प्रशिक्षक, प्रशासनिक कर्मचारी और शिल्पकार सहित कई सदस्य हैं, जो सभी इस संस्थान के परिसर में रहते हैं।