माँ चिंतपूर्णी मंदिर में हिजड़ों के 2 गुटों में असली एवं फर्जी को लेकर हुआ वाद-विवाद

chnitpurni

ऊना…. भरवाईं माँ चिंतपूर्णी मंदिर के बाहरी गेट के नजदीक उस समय अफरा-तफरी मच गई, जब नकली एवं असली के चक्कर में हिजड़ों के मध्य में मारपीट आरंभ हो गई। हिजड़ों के 2 गुटों में असली एवं फर्जी को लेकर वाद-विवाद हो गया।

गेट पर तैनात सुरक्षा कर्मियों ने दोनों पक्षों की लड़ाई के बीच में किया बचाव

इसके पश्चात पुलिस इस बात का पता करने में जुट गई कि कौन असली हिजड़े हैं। कुछ समय के पश्चात कुछ हिजड़ों ने पैसे मांगकर हिजड़ों के कपड़े उतारने आरंभ कर दिए। हिजड़ों की इस लड़ाई को मंदिर में आने-जाने वाले भक्त भी देख रहे थे। इसे देखकर वहां से आने-जाने वाले भक्तों को शर्मसार होना पड़ा। जबकि बाहरी गेट पर तैनात सुरक्षा कर्मियों ने दोनों पक्षों की लड़ाई के बीच में बचाव किया।

मंदिर परिसर के कर्मचारियों से ली जाएगी जानकारी

माँ चिंतपूर्णी मंदिर विश्व प्रसिद्ध है। मंदिर के बाहरी गेट के नजदीक इस प्रकार की घटना का होना मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम पर सवाल खड़ा करता है। मंदिर के नजदीक पेश आ रही ऐसी घटनाओं का मंदिर परिसर में आने वाले भकतजनों की भावनाओं को ठेस पहुंचा रही है। मारपीट की इस वारदात मेें एक हिजड़ा बहुत बुरी तरह से लहूलुहान हो गया है। गौरतलब है कि बहुत वर्षो से मंदिर के Out gate की निकासी सीढ़ियों पर 2, 3 किन्नरों की टोली आने-जाने वाले श्रद्धालुओं से पैसे मांगने का काम कर रही है। इसे लेकर आजतक मंदिर प्रशासन के कर्मचारियों ने कोई भी कार्रवाई नहीं की है। इस बारे में SDM अंब एस तारुल रविश का मानना है कि मारपीट की वारदात के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं मिली है। एस तारुल रविश ने कहा कि यदि ऐसा हुआ है तो इसके बारे में मंदिर परिसर के कर्मचारियों से जानकारी ली जाएगी।

मारपीट की वारदात को लेकर मिली मौखिक रूप से जानकारी : चिंतपूर्णी थाना प्रभारी

मंदिर कार्यालय के अधीक्षक जीवन कुमार के अनुसार उक्त घटना मंदिर के बाहरी गेट की सीढ़ियों पर हुई है। इस घटना की जानकारी चिंतपूर्णी पुलिस को दे दी गई है एवं सुरक्षा कर्मियों को भी यहां से सभी हिजड़ों को हटाने के निर्देश दे दिए गए हैं। चिंतपूर्णी थाना प्रभारी जगवीर ठाकुर का मानना है कि मारपीट की वारदात को लेकर उन्हें मौखिक रूप से जानकारी मिली थी। जगवीर ठाकुर ने कहा कि पूरा मामला क्या है इस बात की जांच करने के पश्चात कार्रवाई की जाएगी।

Debate over the genuine and fake two groups of eunuchs in Maa Chintpurni temple