हिमाचल प्रदेश के ठेकेदारों को सुनहरा अवसर, 15 करोड़ तक के कांट्रैक्ट प्रदेशवासियों को ही मिलेंगे।

himachal pp

हिमाचल प्रदेश में केंद्र सरकार के जल जीवन मिशन के दौरान 15 करोड़ रुपए से नीचे के काम हिमाचल के ठेकेदारों को ही दिए जाएंगे। इस से हिमाचली ठेकेदारों को बड़ी राहत मिलेंगी। प्राप्त जानकारी के अनुसार यह ऐलान जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह द्वारा किया गया है।

उन के द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार उन्होंने कहा कि इस मिशन के तहत जो काम ठेकेदारों को दिए जाएंगे और उन्हें समय पर पूरा भी किया जाएगा। क्योंकि इस मिशन के तहत 31 अगस्त 2022 तक का टारगेट दिया गया है।

छोटी स्कीमों के निर्माण के लिए सामान की आपूर्ति विभाग खुद करेगा

बताया गया है की सदन में विधायक रामलाल ठाकुर द्वारा उनके निर्वाचन क्षेत्र में एक साढ़े 14 करोड़ की स्कीम के लिए बाहरी राज्यों के ठेकेदारों को लाने का मामला उठाया गया था। प्राप्त जानकारी के अनुसार जिस पर महेंद्र सिंह ने कहा कि इस मिशन में छोटी स्कीमों के निर्माण के लिए सामान की आपूर्ति विभाग खुद करेगा।

इस के अनुसार लेबर का कंपोनेंट ठेकेदारों का होगा। हिमाचली कांटै्रक्टर को यह काम सौंपा जाएगा वहीं 15 करोड़ रुपए से नीचे की सभी स्कीम में हिमाचली ठेकेदारों को ही दिए जाएंगे।

श्रीनयनादेवी क्षेत्र में हुए मामले का किया जाएगा निरीक्षण

बताया जा रहा है की जिनको इस काम में प्राथमिकता दी जाएगी। उन्होंने यह कहा कि वह श्रीनयनादेवी क्षेत्र में सामने आए मामले का अधिकारियों से पता करेंगे कि आखिर उसमें क्या किया गया है। इसके साथ ही ठेकेदारों को तय की गयी अवधि में काम पूरा करने के लिए कहा गया है। उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन में हिमाचल प्रदेश पहले स्थान पर आया है।

यह पुरे प्रदेश के लिए एक ख़ुशी की बात है। उन्होंने बताया गया की इस गति को यूं ही बरकरार रखा जाएगा। हिमाचल प्रदेश के विधायक द्वारा उठाए गए एक अन्य मामले में कहा कि टीसीपी क्षेत्रों के साथ लगते एरिया को इससे बाहर करने व मकानों को नियमित करने के मामले में सरकार ने कैबिनेट सब कमेटी बना रखी है। जो इस की निगरानी करेंगी।

Himachal Pradesh contractors will get golden opportunity, up to 15 crore contracts will be given only to the people of the state.