हिमाचल प्रदेश को शिक्षा सुधार के लिए परफॉर्मेंस ग्रेडिंग इंडेक्स 2018-19 में मिला देश भर में छठा रैंक,

school

हिमाचल प्रदेश ने शिक्षा सुधार के लिए बहुत से कार्य किये है, और पिछले कुछ वर्षो में हिमाचल शिक्षा के स्तर के लिए काफी उभरा है, हिमाचल प्रदेश ने शिक्षा में सुधार में बढ़ी छलांग लगाई है। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय से जारी हुए परफॉर्मेंस ग्रेडिंग इंडेक्स 2018-19 में हिमाचल ने 1000 में से 799 अंक लेकर देश भर में छठा रैंक प्राप्त किया है। पिछले 2017-18 की रेंटिंग में हिमाचल का 14वां रैंक था। जो इस बार 6 वा पहुंच गया है। इस परफॉर्मेंस ग्रेडिंग इंडेक्स के दौरान प्रदेश को 1000 में से 736 अंक मिले थे। हिमाचल प्रदेश में शिक्षा की गुणवत्ता, बुनियादी सुविधाएं, समान शिक्षा और गवर्नेंस प्रोसेस के मामले में देश के कई बड़े राज्यों को पीछे छोड़ दिया है। और शिक्षा स्तर को बेहद उभारा है।

70 महत्वपूर्ण बिंदुओं के पैमाने पर आधारित होती है यह रिपोर्ट

यह परफॉर्मेंस ग्रेडिंग इंडेक्स (PGI) केंद्रीय मंत्रालय द्वारा 70 महत्वपूर्ण बिंदुओं के पैमाने पर आधारित रिपोर्ट को 2018 से तैयार करने की शुरुआत की है। केंद्रीय मंत्रालय ने इन बिंदुओं के आधार पर सभी राज्यों से ऑनलाइन जानकारी मांगी थी। इस सूचना के आधार पर 2018-19 की रिपोर्ट तैयार कीयी है। सभी राज्यों की शिक्षा व्यवस्था के प्रदर्शन को सात ग्रेड में विभाजित किया था, जो कि शून्य से 1000 वेटेज पर आधारित था। लेवल अभी तक 01 और 02 में कोई भी राज्य शामिल नहीं हो सका है। बहुत से राज्यों में अभी शिक्षा का स्तर कुछ ख़ास नहीं है, मगर बताया जा रा है की जल्द ही सभी राज्य शिक्षा के स्तर को ऊपर के आएंगे और शिक्षा में महत्वपूर्ण सुधार किये जाएंगे।

Himachal Pradesh got the sixth rank nationwide in the Performance Grading Index 2018-19 for education reform