“कुगती पास ट्रेक” हिमाचल प्रदेश का एक पवित्र और प्रसिद्ध धार्मिक स्थल, “Kugati Pass Trek” a sacred and famous religious place

Kugati_Pass_Trek

कुगती पास ट्रेक हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में स्तिथ एक धार्मिक पास है, इस कुगती दर्रा की ऊंचाई समुंद्रतल से लगभग 5,050 मीटर है, यह पास पीर पंजाल श्रेणी के अंतर्गत आता है। यह पास ट्रेकर्स के लिए हिमाचल की अद्भुत सुंदरता का अनुभव करने के लिए एक आदर्श स्थान है। हर साल बहुत से पर्टयक इस स्थान की यात्रा के लिए आते है, कुगती इस स्थान में विराजमान एक हिन्दुओ के देवी है, जो यहां के गद्दी समुदाय की कुल देवी है, यहां के लोग पूरी श्रदा के साथ इस देवी के पूजा अर्चना करते है, पर्टयक इस क्षेत्र में ऊपर की ओर चढ़ने पर डुग्गी मैदान तक पहुँच सकते हैं, जो कि पहाड़ों के शानदार दृश्य को दिखाते हुए, शिविर के लिए एक आदर्श स्थान है।

Kugati_Pass_Trek(1)

कैलाश चोटी धौलाधार पर्वतमाला और लाहौल घाटी से परे बर्फ से ढके पहाड़ों के खूबसूरत दृश्यों, Beautiful views of the snow-capped mountains beyond the Kailash peak Dhauladhar ranges and Lahaul valley

इस पास के शिखर से पर्टयक राजसी मणिमहेश कैलाश चोटी, शानदार धौलाधार पर्वतमाला और लाहौल घाटी से परे बर्फ से ढके पहाड़ों के खूबसूरत दृश्यों को देख सकते है, पास के आधार पर पर्टयक लिआ गुफा का अन्वेषण कर सकते है। कुगती दर्रे के लिए ट्रेक मार्ग ब्रह्मौर से शुरू होता है, जो आगे हडसर की ओर जाता है, जिसके बाद यह रास्ता पर्टयकों को कुगती गांव तक ले जाता है। टपर्टयक कीलोंग और देवी मुरकुला देवी मंदिरों से कुगती दर्रे तक भी जा सकते हैं। मंदिर से अल्पाइन घास के मैदानों के माध्यम से चढ़ाई करते हुए सैलानी दुग्गी कैम्पिंग ग्राउंड तक पहुंचते है,यह विशाल चट्टानी घास का मैदान बुधिल नदी और डुग्गी धारा के संगम पर स्थित है।

Kugati_Pass_Trek(2)

लोकप्रिय और रोमांचित ट्रेक, Popular and Excited Trek

भारत के राज्य हिमाचल प्रदेश में स्तिथ यह अज्ञात ट्रेकों में से एक है, कुगती पास ट्रेक दुर्लभ और दूरस्थ ट्रेक है – निचली पगडंडियों पर ट्रेक हवाओं के माध्यम से एक एकड़ में सेब के बगीचे के साथ देवदार के जंगल और हरी घास के मैदानों पर स्तिथ एक सुरम्य स्थान है। यहां हर जगह पानी गिरता है। शिविर स्थल झरनों और हरी घास के बगल से बाहर निकलते हैं। ऊंची ढलानों पर, निशान बर्फ के खेतों, ग्लेशियरों और बर्फ गिरता है। उच्च ऊंचाई का रोमांच नशीला होता है।

Kugati_Pass_Trek(3)

मुरकुला देवी को समर्पित मंदिर भी स्तिथ है, A temple dedicated to Murkula Devi is also located

पर्टयक ट्रैकिंग मार्ग पर चलते हुए, कीलोंग मंदिर के पार आते हैं, कुगती दर्रे की शासन देवी – मुरकुला देवी को समर्पित मंदिर भी स्तिथ है। मंदिर से सैलानी आलपीन घास के मैदानों से होते हुए दुग्गी कैम्पिंग ग्राउंड तक पहुँचते हैं। यह विशाल चट्टानी घास का मैदान बुधिल नदी और डुग्गी धारा के संगम पर स्थित है। हिमाचल प्रदेश में स्तिथ यह ट्रेक एक बहुत ही लोकप्रिय और रोमांचित ट्रेक है।

Kugati_Pass_Trek(4)

एक धार्मिक स्थान ” साक्षात देवी कुगति का निवास, A religious place “abode of Sakshat Devi Kugati

हर साल यहां के निवासी देवी कुगति के लिए जात्रा के लिए आते है, जात्रा एक गद्दी समुदाय का धार्मिक और बहुत पवित्र महोत्स्व होता है, इस दौरान गांव के सभी लोग माँ की पूजा अर्चना के लिए माँ के मंदिर में जाते है, और पूजा अर्चना करते है, और बकरे की बलि दी जाती है, मान्यता है, की देवी सभी की मनोकामनयाए पूर्ण करती है, जो भी श्रदालु सच्चे मन से यहां दर्शन के लिए आते है, उस की सभी मनोकामनाये देवी पूर्ण करती है, जिस बजह से हर साल बहुत से श्रदालु दूर-दूर से यहां आते है, इस मंदिर की बहुत से ऐतिहासिक और पौराणिक मान्यताये है, हिमाचल के इस पास में स्तिथ यह मंदिर किसी रहस्मयी स्थान से कम नहीं है, जो भी इस दर्रे को पर करता है, वो पहले देवी का आशिर्बाद लेता है, तभी यह यात्रा समय होता है।

Kugati_Pass_Trek(5)

कुगती पास ट्रेक की यात्रा का सही समय, Best time to visit Kugati Pass trek

यदि आप इस खूबसूरत और धार्मिक पास की यात्रा का प्लान कर रहे है, और इस ट्रेक पर आना चाहते है, तो आप के लिए यहां आने का सही समय गर्मियों के दौरान का होगा, सर्दियों के समय यहां बेहद ठण्ड होती है, और बर्फबारी की बजह से यहां के सभी रास्ते भी बंद होते है, मई से अक्टूबर का समय यहां आने का सही समय माना जाता है, इस दौरान यहां का मौसम बहुत शांत और शीतल होता है, यदि आप चम्बा में एक एकांत और सुखद वातावरण की तलाश कर रहे हो, तो आप के लिए यह एक आदर्श स्थान साबित होगा।