मैहतपुर में नवविवाहिता की मौत, साइकिल सवार को बचाते हुए Bike हुई अनियंत्रित

una (2)

ऊना के मैहतपुर में नवविवाहिता को शृंगार की जो Excitement होती है, उसे पूरा करने के लिए मंदीप कौर बेटी बलवीर चंद सामान खरीदने के लिए अपनी चचेरी बहन ममता और भाई के साथ Bike से बाजार के लिए निकले ही थे, कि कुछ दूरी पर ही उनका Accident हो गया। उनको नहीं पता था कि घर से कुछ ही दूरी पर ही उसकी मौत हो जाएगी।

मंदीप कौर की चचेरी बहन ममता संगीन रूप से जख्मी

बुुधवार की शाम को रायपुर सहोड़ां गाँव के माजरा बाड़ेयां में Cycle सवार को बचाते हुए Bike अनियंत्रित हो गई। इससे मंदीप कौर और ममता सड़क पर जा गिरे। मनदीप कौर के सिर में गहरी चोट के कारण अचेतावस्था में ही पुलिस की सहायता से उसे ऊना हॉस्पिटल जे जाया गया, वहां डॉक्टरों ने उस नवविवाहिता को मृत घोषित कर दिया। उसके पिता बलवीर चंद ने कहा है कि टिपर से उसका सिर फटा है। मंदीप कौर की चचेरी बहन ममता संगीन रूप से जख्मी है। वह ऊना हॉस्पिटल में Under treatment है।

अब मंदीप कौर की रह गई यादें

25 साल की मंदीप कौर का विवाह 4 फरवरी को छत्रपुर गाँव में हुआ था । अभी तक मंदीप कौर के हाथों में सजी मेहंदी का रंग भी फीका नहीं हुआ था कि मौत उसको बुलाकर ले गई। आंखों से बह रहे आंसुओं को पोछते हुए पिता बलवीर चंद ने बताया कि शाम को 1 बार तो उनके मना करने पर तीनों भाई, बहिन मैहतपुर बाजार जाने से रुक गए। परन्तु चारपाई पर लेटते ही उनकी आंख लग गई। वह तीनों भाई,बहिन मैहतपुर बाजार को चुपके से निकल गए। घर से अभी कुछ ही दूर गए थे, कि यह हादसा हो गया।

पिता ने कहा कि मंदीप ने BSC तक पढ़ाई की थी। खानपान और सिलाई-बुनाई में बहुत होशियार थी। 3 भाइयों की इकलौती बहन का विवाह बड़े चाव के साथ सब ने मिलजुल कर किया था। शिवरात्रि को मंदीप कौर ससुराल में थी, जिसके कारण उसके हाथों से बने फलाहार खाने से परिवार के सदस्य वंचित रह गए। उसे शाम को जब Phone पर यह बात पता चली तो वह दूसरे ही दिन घर पर पहुंच गई। घर के सदस्यों ने फफक-फफक कर रोते हुए कहा कि मंदीप तो चली गई अब उसकी यादें ही बच्ची रह गई हैं। मायके रायपुर सहोड़ां और ससुराल छत्रपुर में उसकी मौत से मातम पसरा हुआ है।

Newlyweds died in Mehatpur, bike uncontrolled while protecting cyclist