सैंड फ्लाई मक्खी फिर हुई हिमाचल में सक्रिय, सतलुज के किनारे मक्खी के पनपने की बताई जा रही संभावना

खुनी मक्खी नाम से मशहूर सैंड फ्लाई मक्खी हिमाचल प्रदेश में फिर सक्रिय हुई है। सैंड फ्लाई नाम की इस मक्खी के काटने के हिमाचल प्रदेश में पांच माह में चार मामले सामने आये है। मामले की गंभीरता को देखते हुए हिमाचल प्रदेश स्वास्थ्य विभाग ने सैंड फ्लाई पर स्टडी करने के निर्देश भी जारी कर दिए है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मक्खी का ज्यादा प्रभाव उच्च क्षेत्रो में पाया गया है। बताया जा रहा की शिमला, किन्नौर और कुल्लू में इस खूनी मक्खी पर सर्वेक्षण जल्द ही पूरा होने वाला है।

जल्द पूरा होगा सर्वेक्षण

इस मक्खी को सतलुज के किनारे पनपने की पूर्ण संभावना बताई जा रही है। अब तक हिमाचल में जो चार मामले सामने आए हैं, वो सभी किन्नौर और शिमला के ऊपरी क्षेत्रों से बताए जा रहे हैं। बाकी के रिकार्ड पर गौर करें तो हर वर्ष इस तरह के आठ से दस मामले अस्पतालों में आ रहे हैं। आईजीएमसी शिमला के अन्य अस्पतालों में सैंड फ्लाई मक्खी के काटने से प्रभावितों के मामले आ रहे हैं। इसी लिए स्वास्थ्य विभाग ने मक्खी पर हो रहे सर्वेक्षण को जल्द पूरा करने को कहा है।

हर साल लगभग दस मामले आ रहे है सामने

आईजीएमसी में आने वाले मामलों की पुष्टि करते हुए अस्पताल के त्वचा विभाग के विशेषज्ञ डा। जीके वर्मा ने बताया की अस्पताल में हर वर्ष लगभग दस केस इस मामले के आ रहे है। मामलों की पूरी स्टडी करके पीडि़तों को विशेष ट्रीटमेंट दी जा रही है। यह बहुत ही खतरनाक मक्खी बताई गयी है, जिसके काटने से मृत्यु भी हो सकती है।

मक्खी के काटने के लक्षण

स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार जिस अंग में यह मक्खी काटती है, उस अंग में घाव हो जाता है। जो बेहद पीड़ा देता है। धीरे-धीरे यह घाव अल्सर का रूप ले लेता है। इतना ही नहीं इस घाव को भरने में काफी समय लग जाता है। इस रोग के लक्षणों में रुक-रुककर या फिर तेजी से बुखार आने लगता है।

इस से प्रभावित लोगो को भूख न लगना, वजन का कम होना और शरीर में कमजोरी महसूस होने लगती है। हिमाचल प्रदेश के रामपुर क्षेत्र में एक विशेष टीम का गठन किया जा चुका है, जो सतलुज नदी क्षेत्र के किनारे बसे लोगो को इस बीमारी से बचाव के बारे में जागरूक कर रही है। और कालाजार से ग्रसित लोगों का पता भी लगाया जा रहा है।

Sand fly fly again active in Himachal, possibility of fly flying on the banks of Sutlej

Related Posts