हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला के (आइजीएमसी) में अब लगेंगे ऑटोमेटिक बैरियर, गाड़ियों का प्रवेश बंद

हिमाचल प्रदेश के राजधानी शिमला में प्रदेश के सबसे बड़े हॉस्पिटल (आइजीएमसी) इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज में अब जल्द ही ऑटोमेटिक बैरियर लगाने का काम शुरू होगा। प्राप्त जानकरी के अनुसार अब सरकार शिमला के इस अस्पताल के डी ब्लॉक के नीचे पहुंचने वाली गाडिय़ों के लिए ऑटोमेटिक बैरियर लगाए जाने की योजना बना रही है।

टैग स्कैन के माद्यम से ही मिलेगा प्रवेश

इस योजना से डॉक्टरों और हॉस्पिटल के कर्मचारियों को बड़ी राहत मिलेगी। अब केवल वही गाडिय़ां अस्पताल परिसर में लगेगी जिनमें विशेष प्रकार का टैग लगा हुआ होगा।

यह बैरियर पूरी तरह से आटोमेटिक होगा जो टैग को स्कैन करेगा और वही गाडी अंदर जायगी जिस में टैग लगा होगा। इस दौरान जिन वाहनों में टैग नहीं होगा उन वाहनों परिसर में आने नहीं दिया जाएगा।

वर्तमान में 30 वाहन ही हो पाते पार्क

इस योजना की मदद से एक्स-रे, अल्ट्रासाउंड, सीटी स्कैन कक्ष तक पहुंचाने वाली निचली सड़क के बाहर मंनचंदा शॉप के पास लगाया जाना है। इसके लिए सरकार ने लाखों रुपये का बजट प्रस्तावित किया है। इस से पार्किंग की सुविधा में भी सुधार होगा।

वर्तमान समय में अन्य वाहनों को रोकने के लिए लोहे की चेन लगाई गई है। जानकारी के अनुसार वर्तमान में डी-ब्लॉक के बाहर केवल डॉक्टरों और कर्मचारियों के करीब 30 वाहन पार्क हो पाते है।

Himachal Pradesh capital Shimla (IGMC) will now have automatic barrier, entry of vehicles closed

Related Posts