हिमाचल में पहले केन्द्रीय विश्वविद्यालय और अब स्कुल शिक्षा बोर्ड की लापरवाही 12वीं के पेपर में दो बार डाल दिया एक ही प्रश्न

himachal pradesh

हिमाचल प्रदेश की शिक्षा प्रणाली दिन प्रतिदिन गिरती ही जा रही है, कुछ समय पहले केन्द्रीय विश्वविद्यालय के ले प्रवेश परीक्षा में लापरवाही हुई थी, जिसमे पुराने प्रश्न डाल दिए गए थे और अब स्कल शिक्षा बोर्ड ने भी अपनी लापरवाही दिखा दी। प्रदेश में चल रहे स्कुल शिक्षा बोर्ड के प्रश्न पत्र में एक ही सवाल को दो बार पूछ लिया गया है। यह मामला 12वीं कक्षा की परीक्षा में स्कूल शिक्षा बोर्ड की बड़ी लापरवाही का है।

बिना जाँच के ही प्रश्न पत्र जारी कर दिए

व्यावसायिक अध्ययन विषय की परीक्षा में बी सीरीज के प्रश्न पत्र में 20वां और 23वां एक ही प्रश्न दो बार डाल दिया गया। 20वें प्रश्न के तीन अंक जबकि 23वें के चार अंक दर्शाए गए थे। जिससे यह निर्धारित होता है की प्रश्न डालने से पहले स्कुल शिक्षा बोर्ड ने इन की जाँच नहीं की है और बिना जाँच के ही प्रश्न पत्र जारी कर दिए है।

बोर्ड की कार्यप्रणाली पर जताया रोष

प्रदेश में हुए इस मामले में अभिभावकों राजेश कुमार, अशोक कुमार, संजय कुमार आदि ने प्रश्न पत्र सेट करने वाले अध्यापकों व बोर्ड की कार्यप्रणाली पर रोष जताया है। इसी दौरान अभिभावकों का कहना है कि बोर्ड ऐसे अध्यापकों की ड्यूटी पेपर सेट करने में क्यों लगाता है, जो लापरवाही बरतते हैं। जिन्हे यह ही नहीं पता की प्रश्न कितनी बार पूछा गया है।अभिभावकों ने छात्रों को इन प्रश्नों के उचित नंबर देने की मांग बोर्ड से की है।

ग्रेस मार्क्स आदि का निर्णय बोर्ड द्वारा लिया जायेगा

इसी के साथ कार्यकारी उपनिदेशक उच्चतर शिक्षा विभाग एवं उपनिदेशक निरीक्षण विंग अजय पटियाल का कहना है कि इस बारे में बोर्ड ही निर्णय लेना है। प्रदेश में ग्रेस मार्क्स आदि का निर्णय बोर्ड ही लेगा। इसी के साथ प्रश्न पत्र में दोहराए गए प्रश्न के बारे में बोर्ड को अवगत करवा दिया जाएगा।

पुरे मामले की छानबीन की जाएगी

बोर्ड द्वारा प्रश्न पत्र स्कूल अध्यापक द्वारा सेट किए जाते हैं। अगर प्रश्न पत्र में कोई गलती है तो संबंधित अध्यापक से जवाब मांगा जाएगा। फिलहाल प्रश्न के दोहराव की शिकायत नहीं मिली है। इस पुरे मामले की छानबीन की जाएगी। और जल्द ही कोई ना कोई करवाई की जाएगी।

Negligence of first Central University in Himachal and now school education board put same question twice in 12th paper