हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री और अन्य विधायको का टीए-डीए में इतना खर्च जयराम 11वें नंबर पर रहे

हिमाचल प्रदेश में यात्रा और महंगाई भत्ता लेने में जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह सबसे प्रथम स्थान में रहे हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार 2018-19 और 2019-20 के दौरान 31 जनवरी तक महेंद्र सिंह ने 20।51 लाख के भत्ते क्लेम किए हैं। जानकारी के अनुसार इस सूची में प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर कम खर्चीले साबित होते हुए11वें नंबर पर रहे हैं।

हिमाचल प्रदेश के ऊर्जा मंत्री रहे अनिल शर्मा सबसे कम खर्चीले रहे

हिमाचल के मुख्यमंत्री ने 02 साल में 06 लाख के भत्ते लिए हैं। इस दौरान मुख्यमंत्री और जल शक्ति मंत्री दोनों ने मेडिकल रि-इंबर्समेंट नहीं ली है। दोनों ने टीए और डीए ही क्लेम किया है। अधिक भत्ते लेने वाले मंत्रियों की सूची में शहरी विकास मंत्री सरवीण चौधरी और ग्रामीण विकास मंत्री वीरेंद्र कंवर 03 नंबर पर रहे हैं। जानकारी के अनुसार हिमाचल प्रदेश के ऊर्जा मंत्री रहे अनिल शर्मा सबसे कम खर्चीले रहे हैं।

प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा दी गयी जानकारी

हिमाचल प्रदेश में इन्होंने 5,48 लाख क्लेम किए हैं। जानकारी के अनुसार प्रश्नकाल के दौरान माकपा विधायक राकेश सिंघा के सवाल के लिखित जवाब में मुख्यमंत्री ने यह जानकारी दी है की सबसे अधिक भत्ते लेने वालों की सूची के अनुसार विपिन परमार 04, बिक्रम सिंह 05, सुरेश भारद्वाज, किशन कपूर 06, राजीव सैजल 07, गोविंद ठाकुर 08, रामलाल मारकंडा 09, 10 और अनिल शर्मा 12वें नंबर पर रहे है।

प्रदेश के शिक्षा मंत्री ने नहीं लिया कोई भत्ता

प्रदेश के शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने बीते 02 साल के दौरान यात्रा भत्ता क्लेम नहीं किया। हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला शहर से विधायक होने के चलते उन्होंने जहां यह भत्ता नहीं लिया, वहीं मेडिकल रि-इंबर्समेंट ने सबसे ज्यादा लिया है। जानकारी के अनुसार उन्होंने 3,48 लाख के मेडिकल भत्ते लिए हैं। इसी दौरान मंत्री रामलाल मारकंडा बिक्रम सिंह और राजीव सैजल ने मेडिकल रि-इंबर्समेंट नहीं ली।

The Chief Minister of Himachal Pradesh and other MLAs spent so much in TA-DA, Jayaram was at number 11

Related Posts