कोरोनावायरस का खौफ, प्रदेश में बंद रहेंगे धर्मशाला सहित अन्य तिब्बतियों के टीसीवी स्कूल

dharmshala

हाल ही कुछ समय फैले कोरोनावायरस का खौफ देश विदेश के साथ-साथ हिमाचल में भी फेल गया है। प्रदेश वासियो में भी कोरोनावायरस का खौफ फेल गया है। जिस बजह से कोरोना वायरस के खतरे को भांपते हुए निर्वासित तिब्बत सरकार की ओर से संचालित तिब्बतियन चिल्ड्रन विलेज्स (टीसीवी) ने अपने स्कूल बंद करने का फैसला लिया है।

कुछ समय के लिए हिमाचल प्रदेश में स्तिथ सभी (टीसीवी) स्कूल बंद रहेंगे। प्राप्त जानकरी के अनुसर सर्दियों की दो माह की छुट्टियां खत्म होने के बाद मंगलवार को टीसीवी के स्कूल खुलने थे।

खोफनाक कोरोनावायरस का डर पहुंचा धर्मशाला

मगर इस खोफनाक कोरोनावायरस की बजह से टीसीवी स्कूलों ने खतरे के चलते स्कूलों को नए आदेशों तक बंद करने का निर्णय लिया है। अब और कुछ समय तक सभी स्कूल बंद रहेंगे। इसके साथ ही मैकलोडगंज में कई वर्षों से रह रही विदेशी मेहमान पर्यावरणविद “गजाला अब्दुल्ला” ने कहा कि वह गोपालपुर स्थित टीसीवी स्कूल में गोद लिए चार तिब्बती बच्चों को दो माह की छुट्टियां खत्म होने के बाद छोड़ने गई थी।

मगर वहा जा के उन्हें इस बात की जानकारी मिली की स्कूल प्रशासन ने कहा कि कोरोनावायरस के खतरे के चलते प्रबंधन ने अभी तक स्कूल को दो माह के लिए बंद करने का निर्णय लिया है।

धर्मगुरु दलाईलामा ने सभी टीचिंग कक्षाएं अनिश्चितकाल के लिए की बंद

इसके साथ ही कोरोनावायरस को लेकर तिब्बती शरणार्थी ज्यादा एहतियात बरत रहे हैं। बताया जा रहा है की बहुत से तिब्बती शरणार्थीयो का देश के बाहर आना जाना लगा रहता है। जिस बजह से उन्हें ज्यादा चौकना रहना पद रहा है। इसके साथ ही, धर्मगुरु दलाईलामा ने पहले ही अपनी सभी टीचिंग कक्षाएं

अनिश्चितकाल के लिए रद्द करने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही धर्मशाला में स्तिथ लोकप्रिय पर्टयक स्थान मैकलोडगंज में सभी पर्टयक और निवासी मास्क लगाये घूमते दिखाई दे रहे है।

The fear of Coronavirus, TCV schools of Dharamshala and other Tibetans will remain closed in the state