साइबर चोरो की नजर अब,हिमाचल प्रदेश पर

हिमाचल प्रदेश में साइबर ठगों ने पूरी तरह से जाल फैला रखा है। हिमाचल प्रदेश में भी बहुत से साइबर शातिर की नजर अटकी हुई है। यह साइबर चोर आम आदमी को अपनी बातों में ऐसा उलझा देते हैं, कि कोई भी इनका भरोसा कर लेता है। इसकी जानकारी यही से पता चलता है, प्रदेश में बहुत से चोर इनके पास कई जाली मोबाइल सिम और लाखों की संख्या में बैंक अकाउंट नंबर मिले हैं।

प्रदुमन पंडित उर्फकर्ण पंडित और पश्चिम बंगाल के विशाल कुमार से मिली विभिन्न उपकरण

यह आरोपी बिहार के बेगुसराय के रहने वाले है। इसके साथ ही प्रदुमन पंडित उर्फकर्ण पंडित और पश्चिम बंगाल के विशाल कुमार पॉल के कब्जे से 34 जाली मोबाइल सिम बरामद की गयी हैं। उनके के लैपटॉप से एक लाख बैंक खाताधारक और एक लाख से अधिक के लिक नंबरों का पता चला है।

प्रदेश से प्राप्त जानकरी के सूत्रों के मुताबिक प्रदेश की सीआइडी के एडीजीपी ने सभी राज्यों के डीजीपी को पत्र लिखा है। वहीं राज्य के सभी पुलिस अधीक्षकों को भी सचेत किया गया है। साइबर ठग तीन राज्यों में ज्यादा सक्रिय रहे हैं, जिसकी जांच चल रही है।

अन्य राज्यों में बैठ कर रहे थे यह साइबर चोरी

हिमाचल प्रदेश वासियो को जाली 34 सिम में से आठ मंडी के 24 लाख रुपये की धोखाधड़ी मामले में प्रयुक्त हुई हैं। इसके साथ उनके कब्जे से तीन लाख छह हजार रुपये बरामद हो चुके हैं। जानकारी के अनुसार यह ठग ऑनलाइन ही जालसाजी के आधार पर बैंकों में खाते खोलते थे। इनके एटीएम मुख्य आरोपित कर्ण ऑपरेट करता था। दो माह में इन शातिरों के खिलाफ 250 सौ शिकायतें दर्ज की गयी है।

सीआइडी द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार यह मानना है कि ऑनलाइन बैंकिंग जैसे ई-वॉलेट पर बिना नो यूअर कस्टमर (केवाइसी) के चल रहे खाते ठगी के लिए इस्तेमाल किए जा रहे हैं। शातिर इन चोरियों को दूसरे राज्यों में बैठकर चला रहे थे। इन्होने अपना नेटवर्क देश के विभिन्न स्थानों में फैला रखा है।

Related Posts