DC ऊना में व्यापारियों को VAT कर निर्धारण के बारे में दी विस्तार पूर्वक जानकारी

vat

ऊना जिले में राज्य कर और आबकारी विभाग के द्वारा बचत भवन ऊना में विशेष प्रकार के सेमिनार का Arrangement किया गया। इसमें DC राज्य और आबकारी ऊना प्रदीप शर्मा ने व्यापारियों को Pending VAT कर निर्धारण के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई। प्रदीप शर्मा ने जानकारी दी कि प्रदेश सरकार ने VAT के लंबित कर निर्धारण के मामले का अंत करने के लिए Himachal Pradesh Legacy Cases Resolution Plan-2020 में विशेष योजना आरंभ की है।

ऊना जिला में ही कर निर्धारण के हैं 15 हजार से ज्यादा मामले

इस योजना के तहत व्यापारी अपने लंबित या फिर बकाया वैट कर निर्धारण मामलों का फैसला करवा सकते हैं। प्रदीप शर्मा ने कहा कि यह योजना विभाग एवं व्यापारियों दोनों के लिए ही फायदेमंद है। इसलिए जितनी शीघ्र हो सके व्यापारी अपनी Vat pedancy का निर्धारण करवा लें, जिससे कि व्यापारियों का कोई भी कर निर्धारण का मामला Pending न रहे। प्रदीप शर्मा ने जानकारी दी कि GST आरंभ होने से प्रदेश भर में लाखों की संख्या में VAT निर्धारण के मामले Pending पड़े हैं। यहा तक की अकेले ऊना जिला में ही 15 हजार से ज्यादा मामले कर निर्धारण के हैं।

व्यापारी वर्ग को VAT का निर्धारण के लिए करना पड़ रहा मुश्किलों का सामना

व्यापारी वर्ग को भी VAT का निर्धारण करने के लिए बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था। वहीं पर, विभागीय अधिकारियों पर भी इस लंबित कर निर्धारण का अंत करने का बहुत दबाब था। इसके कारण से विभाग के Routine कार्य भी प्रभावित हो रहे हैं, परन्तु अब सरकार ने VAT निर्धारण की यह योजना आरंभ करके व्यापारियों को राहत प्रदान की है।

प्रदीप शर्मा ने जानकारी दी कि यह योजना 30 अप्रैल 2020 तक ही लागू की गई है। इस योजना का व्यापारी लाभ उठा सकते हैं। सेमिनार में व्यापार मंडल प्रधान मोती राम कपिला, संसार चंद, अरविंद शर्मा, जोध सिंह ठाकुर, अमन सोबत, रजनीश डोगरा, संजय शर्मा, एडवोकेट और अकाउटेंट भी शामिल थे।