हिमाचल प्रदेश में डाक्टरों के 370 पद है खाली

docter

हिमाचल प्रदेश में डाक्टरों को लेकर सुक्खू अडे़ रहे कि क्या मेडिकल कॉलेजों मेें चिकित्सकों की सेवानिवृत्ति अवधि को 68 साल से घटाकर 58 वर्ष किया जाएगा। जानकारी के अनुसार हर साल सरकारी और निजी मेडिकल कॉलेजों से 355 डॉक्टर पास आउट होते है। इसके साथ ही वर्तमान में बीडीएस के 342 पद ही सृजित हैं।

इनमें भी से 332 भरे गए हैं, जबकि 13 ही खाली हैं। मशक्कत से नीट की परीक्षा पास कर इतने बीडीएस मिल रहे हैं। यह सही है कि दो साल में बहुत ज्यादा पदों को नहीं भरा जा सका है।

बिंदल बोले बीडीएस के लिए कोर्स शुरू कर दिया जाए

इसी दौरान नाहन के भाजपा विधायक राजीव बिंदल ने सुझाव दिया कि मेडिकल कॉलेज में एक साल का प्रशासनिक उद्देश्यों से बीडीएस के लिए कोर्स शुरू कर दिया जाए। इसके साथ ही यदि हर कॉलेज में तीस-तीस सीटें भी कर दें तो सही होगा।

इस पर प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर बोले कि इसकी व्यवहारिकता देखी जाएगी। बिंदल की ओर इशारा कर कहा कि वह खुद डाक्टर हैं और व्यवहारिकता की ही बात कर रहे होंगे। प्रदेश में डॉक्टरों के 370 पद खाली चल रहे हैं। इस पर भी विचार किया जाएगा।

वर्तमान प्रदेश में 2413 डॉक्टरों के पद स्वीकृत

जानकारी के अनुसार वर्तमान प्रदेश में 2413 डॉक्टरों के पद स्वीकृत हैं। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने यह जानकारी दरंग के विधायक जवाहर ठाकुर की ओर से पूछे गए लिखित प्रश्न के उत्तर में गयी थी। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य केंद्र कोट-स्नोर के लिए डॉक्टर का एक पद स्वीकृत है। जल्द ही खाली पदों पर भी नियुक्ति कर दी जाएगी।

There are 370 vacancies of doctors in Himachal Pradesh