हिमाचल में जेल विभाग ने कोरोना को मद्देनजर रखते हए लिया फैसला, नए कैदियों को तीन दिन तक अलग कमरे में रखा जायेगा

हिमाचल प्रदेश के जेल विभाग ने देश भर में फैले कोरोना वायरस को दयँ में रखते हुए एक फैसला लिया है, देशभर में कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के साथ ही प्रदेश के जेल विभाग ने विचाराधीन व स्थायी कैदियों की निवास प्रक्रिया में बदलाव कर दिया है।

जानकारी के अनुसार अब किसी भी मामले में जेल में निरुद्ध होने वाले कैदियों को पहले तीन दिन तक जेल में बनाए गए अलग कमरों में रखा जाएगा। केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार संक्रमण संबंधी लक्षणाें को लेकर उन पर नजर रखी जाएगी। और समय समय में उन की जांच की जाएगी।

कैदी के परिजनों से भी नहीं मिलने दिया जायेगा, वीडियो कॉल के माध्यम से हो सकेगी बात

जाँच के बाद ही उन्हें अन्य कैदियों के साथ रखा जाएगा। इस दौरान सभी कैदियों के जेल आने से पहले इन्होंने किस शहर या देश में परिवहन किया है या नहीं इस की जानकारी भी जेल विभाग द्वारा ली जाएगी। विदेशी कैदियों के मामले में पिछली परिवहन की जानकारी पर ज्यादा जोर दिया जाएगा।

इसी दौरान डीजी जेल सोमेश गोयल ने बताया कि जेल में बंद कैदियों से मिलने वालों को भी वीडियो कॉल के जरिये ही संपर्क करने के लिए कहा जाएगा। कोरोना की बजह से कुछ समय तक कैदियों के घर वालो को मिलने के लिए भी मनाई की जायगी।

सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर ही जेल में प्रवेश मिलेगा

जेल विभाग कैदियों को फोन पर ही मिलाई के लिए कहा जा रहा है। जेल से बाहर जाकर काम करने वाले कैदियों को भी सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर ही जेल में प्रवेश करने की व्यवस्था करने को कहा गया है। डीजी गोयल ने बताया कि अगर

किसी नए विचाराधीन या सजा पाने वाले कैदी में खांसी, जुकाम या बुखार के लक्षण मिलते हैं तो उन्हें तुरंत ही अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा तथा उन की जाँच की जायगी। डॉक्टरों की सलाह के बाद ही उन्हें दोबारा जेल में रखने का फैसला लिया जायेगा। इस से बाकि जेल में कैद कैदी भी सुरक्षित रहेंगे।

In Himachal, the jail department has decided to keep the corona in view, new prisoners will be kept in separate rooms for three days.

Related Posts