हिमाचल प्रदेश होगा हरा-भरा, 12 हजार हेक्टेयर पर होगा पौधारोपण

van

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने ऐलान किया है। कि वर्ष 2030 तक राज्य के कुल क्षेत्र का लगभग 30 प्रतिशत क्षेत्र वन आवरण के अधीन लाने का लक्ष्य रखा गया है, जो कि वर्तमान में 27,72 प्रतिशत है। वर्ष 2020-21 में 12000 हेक्टेयर भूमि पर पौधारोपण करने का लक्ष्य रखा गया है।

जिस से प्रदेश को हरा भरा किया जायेगा। और हिमाचल में प्राकृतिक सौंदर्य को निहारा जायेगा। इस बार का पौधरोपण पिछले वर्ष की तुलना में तीन हजार हेक्टेयर अधिक है। प्राप्त जानकारी के अनुसार इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए वन विभाग एक करोड़ पौधे लगाएगा।

सामुदायिक वन संवर्द्धन योजना’ एवं ‘विद्यार्थी वन मित्र योजना’

इसी के साथ आगामी वर्षो में इसे चरणबद्ध तरीके से बढ़ाया जाएगा, ताकि 2030 तक 30 प्रतिशत क्षेत्र पर वन आवरण विकसित किया जा सके। इसी के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री ने यह काम पूरा करने के लिए 15 करोड़ रुपए का प्रस्ताव रखा है। वर्तमान सरकार ने 2018-19 में ‘सामुदायिक वन संवर्द्धन योजना’ एवं ‘विद्यार्थी वन मित्र योजना’ आरंभ की थी।

इस योजना का कार्य भी वनो को बढ़ाना और सुरक्षित रखना था। ‘सामुदायिक वन संवर्द्धन योजना’ के अंतर्गत 2020-21 में साझा वन प्रबंधन समितियों ग्राम वन विकास समितियों के माध्यम से 200 हेक्टेयर भूमि में पौधारोपण व भू एवं जल संरक्षण कार्य करवाए जाएंगे।

वन विभाग की पौधशालाओं में 50 हजार चंदन के पौधे

हिमाचल प्रदेश में लागू परियोजना के तहत ‘विद्यार्थी वन मित्र योजना’ के अंतर्गत 100 नए स्कूलों का चयन करके उनके नजदीक चिन्हित भूमि में विद्यार्थियों द्वारा पौधारोपण करवाया जाएगा। जिस से हर क्षेत्र में पौधरोपण किया जा सकेगा। सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि निजी भूमि पर व्यवसायिक वन्य प्रजातियों के पौधों के रोपण द्वारा अतिरिक्त आय प्राप्त करने के लिए

सरकार 2020-21 में वन विभाग की पौधशालाओं में 50 हजार चंदन के पौधे तैयार करवाएगी। इसी के साथ चंदन के पड़ो में भी वृद्धि की जायेगी। प्रदेश में वन विभाग द्वारा तीन बाह्य सहायता प्राप्त परियोजनाएं कार्यान्वित की जा रही हैं। जिस से आगामी वर्षो में पर्यावरण को बहुत से लाभ मिल पाएंगे।

Himachal Pradesh will be green, plantation will be done on 12 thousand hectares