बागवानी विभाग को झटका, विदेश से लाये गए 6 लाख सेब के पौधो में से 2 लाख पौधे सूखे

हिमाचल प्रदेश बागवानी विभाग को एक बड़ा झटका लगा है। विदेशों से आयात किए गए सेबो के पौधों का पूरा रखरखाव करने के बावजूद लाखों पौधे सूख गए। प्राप्त जानकरी के अनुसार विभाग ने वर्ष 2019-20 में विदेशों से करीब पौने 5,79,271 लाख पौधे आयात किए गए थे।

इन पौधो में ग्राफ्टिड पौधे व रूट स्टॉक दोनों ही शामिल थे। इन पौधों को हिमाचल प्रदेश के 5,79,271 अलग जिलों की पीईक्यू साइट्स पर रखा गया था। मगर बहुत से पौधे सूख गए थे।

प्राप्त आंकड़ों के अनुसार 2,04,959 लाख से ज्यादा पौधे सूख गए हैं

प्रदेश में लगाए गए पौने लाख आयातित पौधों में से 2,04,959 लाख से ज्यादा पौधे सूख गए हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार को विधानसभा में बागवानी मंत्री महेंद्र ठाकुर ने ठियोग विधानसभा क्षेत्र के विधायक राकेश सिंघा की ओर से

पूछे गए सवाल के लिखित जवाब में कहा की सिंघा ने सवाल किया था कि विभाग ने आयातित सेब के पौधों को क्वारंटाइन पीरियड में कहां प्लांट किया गया है। किस नर्सरी में कितने पौधे रखे गए हैं? किस नर्सरी में कितने पौधे सूख गए हैं। की जानकारी दी।

विभिन्न नर्सियों में रखा गया है पौधों को

प्राप्त जानकारी के अनुसार इन पौधों के रखरखाव के लिए कितनी लोग रखे गए और पौधों के स्वास्थ्य की नियमित रिपोर्ट ली जा रही है या नहीं। इसके जवाब में बागवानी मंत्री ने बताया कि पांच अलग-अलग नर्सियों में इन पौधों को संगरोध यानी क्वारंटाइन पीरियड के लिए रखा गया है।

प्रदेश के जिला कांगड़ा जिले में पालपमुर, सिरमौर में बगथान, कुल्लू में बजौरा, मंडी में झामर और समराहन की नर्सियों में रखे गए हैं। इनके रखरखाव के लिए सभी नर्सियों में तकरीबन 31 लोग रखे गए हैं।

Shock to the horticulture department, out of 6 lakh apple saplings brought from abroad, 2 lakh saplings dried

Related Posts