प्रदेश के छात्र बुझाएंगे अब वनो में लगी आग को, वन विभाग ने लिया फैसला

हिमाचल प्रदेश में इस फायर सीजन में सरकारी स्कूलों में अध्ययनरत विद्यार्थी जंगलों को आग से बचाने के लिए अहम भूमिका निभाएंगे। प्राप्त जानकारी के अनुसार वन विभाग ने संवेदनशील व अतिसंवेदनशील जंगलों के निकटवर्ती स्कूलों के विद्यार्थियों को जंगलों को आग से बचाने को लेकर जागरूक करने का निर्णय लिया है,इसके दौरान स्कूली छात्रों को विभिन्न गुण शिखाये जायेंगे। जिसके लिए बाकायदा एक निर्धारित शेड्यूल के तहत स्कूलों में अवेयरनैस प्रोग्राम आयोजित किए जा रहे हैं।

अवेयरनेस प्रोग्राम के लिए 15 लाख का बजट जारी

प्रदेश में यह जिम्मा वन विभाग के रेंज अधिकारियों को सौंपा गया है। विभाग ने अवेयरनेस प्रोग्राम के लिए 15 लाख का बजट जारी किया गया है। इसी दौरान वन वृत्त बिलासपुर के मुख्य अरण्यपाल आरएस पटियाल ने खबर की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि बिलासपुर वन वृत्त के लिए एक लाख के बजट का प्रावधान किया गया है,

जिसके तहत 70 हजार बिलासपुर और 30 हजार की राशि कुनिहार डिवीजन के लिए स्वीकृत की गई है। जिसे से यहां यह योजना शुरू की जाएगी।प्रदेश के जिला बिलासपुर के डिवीजन में सदर, घुमारवीं, स्वारघाट और भराड़ी में रेंज स्तर पर जंगलों से सटे स्कूलों में अवेयरनेस कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

जागरूकता कार्यक्रमों के आयोजन के लिए शेड्यूल तैयार

इसी के साथ उन्होंने बताया कि विभाग स्कूलों में होने वाले जागरूकता कार्यक्रमों के आयोजन के लिए शेड्यूल तैयार कर लिया है और संबंधित रेंज के ऑफिसर स्कूलों में जाकर न केवल बच्चों को वनों की आग से सुरक्षा के प्रति जागरूक करेंगे, बल्कि जंगलों को बचाने के लिए अहम भूमिका निभाएंगे। बच्चो को बहुत से महत्वपूर्ण वनो की सुरक्षा के लिए गुण शिखाये जायेंगे।

वनो को सुरक्षित रखने में सहायता

इसी दौरान उन्होंने बताया कि फायर सीजन की तैयारियों के मद्देनजर विभाग की ओर से पहली बार विद्यार्थियों की भागीदारी सुनिश्चित करने का प्रयास किया गया है। उन्होंने बताया कि जंगलों को आग से बचाने के लिए साझा वन प्रबंधन समितियों के साथ ही स्थानीय जनता और जनप्रतिनिधियों का सहयोग अपेक्षित है। जिस से प्रदेश में वनो को सुरक्षित रखने में सहायता मिलिगी।

Students of the state will extinguish the fire in the forests, the Forest Department has decided

Related Posts