आगामी परीक्षाओं पर लगाई लोकसेवा आयोग ने रोक, अंग्रेजी माध्यम को लेकर हुआ विवाद

lok

हिमाचल प्रदेश में सिर्फ अंग्रेजी माध्यम में स्कूल प्रवक्ता (न्यू) की परीक्षाएं लेने के विवाद के बाद लोकसेवा आयोग ने आगामी आदेशों तक भर्ती प्रक्रिया को रोक दिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार अभ्यर्थियों के विरोध के बाद राज्य लोकसेवा आयोग ने उच्च शिक्षा निदेशालय के पाले में गेंद डाल कर इसी सप्ताह स्पष्टीकरण देने को कहा है।

इसी दौरान आयोग की सचिव ने द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार उन्होंने यह कहा है कि शिक्षा निदेशालय के जवाब के बाद आगामी परीक्षाओं का भविष्य तय होगा। उसी पर निर्धारित होगा की परीक्षाये कब होंगी।

कामर्स की परीक्षा सिर्फ अंग्रेजी भाषा में लेने का यह विवाद

प्रदेश में कामर्स की परीक्षा सिर्फ अंग्रेजी भाषा में लेने से यह विवाद खड़ा हुआ। बताया जा रहा है की कामर्स की परीक्षा केवल अंग्रजी भाषा में ली जाएगी। जिस पर यह बवाल खड़ा हुआ है। इसी दौरान सोमवार को लोकसेवा आयोग के कार्यालय

पहुंच कर कुछ अभ्यर्थियों ने कामर्स परीक्षा को रद्द करने की मांग करते हुए हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में परीक्षाएं लेने की मांग की। बताया जा रहा है की इसी बीच आयोग ने आननफानन में 14 मार्च को होने वाला राजनीति शास्त्र का पेपर भी अंग्रेजी में लेने का आदेश जारी कर के बात को और ज्यादा बिगाड़ दिया है।

उच्च शिक्षा निदेशक को भेजा पत्र

प्रदेश में यह पूरा मामला तूल पकड़ने पर आयोग ने बुधवार को उच्च शिक्षा निदेशक को पत्र भेजकर स्कूल प्रवक्ता भर्ती के लिए अनिवार्य शैक्षणिक योग्यता स्पष्ट करने और आरएंडपी नियम संशोधित करने को कहा है। उन्होंने उच्च शिक्षा निदेशक को यह सूचित किया की जल्द से जल्द आयोग की सचिव राखिल काहलो ने बताया कि आगामी परीक्षाएं निदेशालय के स्पष्टीकरण के बाद ही होंगी।

परीक्षा की तारीख को लेकर निर्णय स्पष्ट नहीं

इसी दौरान आवेदकों को इसकी सूचना दे दी जाएगी। इसी के साथ यह भी कहा गया की स्कूल प्रवक्ता के राजनीति शास्त्र की परीक्षा 14 मार्च और इतिहास की परीक्षा 23 मार्च को ली जानी प्रस्तावित है। यह परीक्षाएं इन्हीं तारीख होंगी या इनकी तारीख बदली जाएगी। इसको लेकर अभी कुछ खास खबर नहीं है।

Public service commission ban on upcoming examinations, dispute over English medium