इलाज के लिए अस्पताल ने मना किया तो होगी करवाई – एसo आरo मरडी

himachal pradesh police

हिमाचल प्रदेश में फैले कोरोना के खौफ की बजह से प्रदेश भर में अशांति का माहौल है, इस महामारी से बचने के लिए प्रदेश सरकार और केंद्रीय सरकार द्वारा बहुत से महत्वपूर्ण कदम उठाये जा रहे है। हिमाचल प्रदेश में सरकारी व निजी अस्पताल किसी भी मरीजों के इलाज के लिए मना नहीं कर सकते हैं।

रूटीन के चैकअप के लिए जरूरी नहीं है कि मरीज का कोरोना टेस्ट हो। कोरोना टेस्ट न होने के बावजूद चिकित्सकों को मरीजों को रूटीन चैकअप करना होगा और मरीज का इलाज किया जाएगा।

भारत सरकार द्वारा कोविड-19 को लेकर सेवा ऐप लांच

यदि कोई अस्पताल रूटीन चेकप के लिए मना करता है तो हिमाचल प्रदेश पुलिस इस तरह के रवैये पर कारवाई भी अमल में ला सकती है। प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस महानिदेशक ने कहा कि भारत सरकार द्वारा कोविड-19 को लेकर सेवा ऐप लांच किया गया है। जनता कोरोना से संबंधित अधिक जानकारी के लिए इस सेवा का लाभ उठा सकती है।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा गाइडलाइन जारी

पुलिस महानिदेशक ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा गाइडलाइन जारी की गई है। जनता इनका पालन कर इस महामारी के संक्रमण से बच सकती है। होम क्वारंटाइन में रह रहे लोगों को इसका पूरा पालन करना चाहिए। घर में अलग कमरे में रहना चाहिए और मास्क लगाने के साथ बार-बार हाथों को साबुन से धोना चाहिए। इस पहल से ही इस महामारी से बचा जा सकता है।

If any hospital refuses treatment, then the Director General of Police, S. R. Mardi