केंद्र सरकार ने प्रदेश में खतरनाक 27 कीटनाशकों पर लगाया प्रतिबंध, जानिए पूरी जानकारी

हिमाचल प्रदेश में बागवानी और कृषि क्षेत्र में उर्वरकों और कीटनाशकों के बेतहाशा इस्तेमाल से खेती जहरीली होती जा रही है। प्राप्त जानकरी के अनुसार जमीन की उर्वरक क्षमता दिन-प्रतिदिन कम हो रही है। इसी को देखते हुए केंद्र सरकार ने 27 कीटनाशकों को प्रतिबंधित कर दिया है। जानकारी के अनुसार इस संबंध में अधिसूचना जारी होने के बाद अब उत्तराखंड सहित अन्य राज्यों में भी इन्हें प्रतिबंधित करने का निर्णय लिया है। ये वे कीटनाशक हैं, जिन्हें मानव जाति के साथ ही अन्य जीवों के लिए खतरनाक माना गया है। जिस बजह से केंद्र सरकार ने इन्हे बंद कर दिया है।

इन 27 कीटनाशकों का इस्तेमाल मनुष्य, पशु-पक्षियों, जलीय जीवों के लिए खतरनाक

इसी के साथ बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ने कहा कि इन घातक कीटनाशकों पर हिमाचल प्रदेश सरकार भी प्रतिबंध लगाएगी साथ ही विश्व के कई ऐसे देश हैं। जहां ये कीटनाशक पहले से ही प्रतिबंधित हैं। इसी लिए केंद्र सरकार ने इन कीटनाशकों की विशेषज्ञों से रिपोर्ट मांगी थी। जिसमें यह बात सामने आई कि 27 ऐसे कीटनाशक हैं, जिनका इस्तेमाल मनुष्य, पशु-पक्षियों, जलीय जीवों के लिए खतरनाक है। इसके बाद केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय ने इन कीटनाशकों को प्रतिबंधित करने का निर्णय लिया है।

इन कीटनाशकों को किया गया प्रतिबंधित

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय ने इन कीटनाशकों को प्रतिबंधित करने पर फैसला लिया है। कार्बोफ्यूरान, क्लोरप्यरिफॉस, 2.4-डी, डेल्टामेथ्रीन, डिकोफॉल, डिमेथोट, ऐसफेट, अल्ट्राजाइन, बेनफराकारब, बुटाक्लोर, कैप्टन, कारबेडेंजिम, डाइनोकैप, डियूरॉन, मालाथियॉन, मैनकोजेब, मिथोमिल, मोनोक्रोटोफॉस, ऑक्सीफ्लोरीन, पेंडिमेथलिन, क्यूनलफॉस, सलफोसूलफूरोन, थीओडीकर्ब, थायोफनेट मिथाइल, थीरम, जीनेब व जीरम शामिल है। इन सभी कीटनाशकों पर प्रतिबंध लगाया है।

Central government imposes ban on 27 pesticides dangerous in the state, know full details

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *